रहिमन इस संसार में भांति-भांति के लोग.

दफ़्तर न जाने के लिए लोग कई Creative बहाने बनाते हैं. किसी को अचानक तेज़ बुखार हो जाता है, तो किसी के दूर के रिश्तेदार स्वर्ग सिधार जाते हैं, तो किसी का Pet बीमार हो जाता है.

अगर बॉस कारण पूछे तो कुछ Legends इस तरह की हरकत भी करते हैं-

Source- Pulptastic

लेकिन दुनिया में कुछ Ultra Legends भी हैं और इनमें से एक को गुजरात में खोज लिया गया है. गुजरात के एक सरकारी अफ़सर ने दावा ठोक दिया है कि वो 'कलकी' हैं, विष्णु के 10वें अवतार. 'विश्व का अंतःकरण' बदलने के लिए ख़ुद को 'तपस्या' में लीन बताया है इन महानुभाव ने.

सरदार सरोवर पुनर्वस्वत एजेंसी के Superintending Engineer रमेशचंद्र फेफर को जब कारण-बताओ नोटिस भेजा गया तो उन्होंने दफ़्तर न पहुंच पाने का ये कारण बताया.

नोटिस और उनका महाFunny जवाब सोशल मीडिया पर भी Memes का Latest Topic बन गया है.

रमेशचंद्र ने कहा,

मार्च 2010 में मुझे ऑफ़िस में ही आत्मानुभूति हुई कि मैं भगवान विष्णु का 10वां अवतार हूं. आने वाले दिनों में मैं ये साबित भी कर दूंगा. मैं विश्व के अंत:करण को बदलने के लिए घर पर तपस्या कर रहा हूं. दफ़्तर में तपस्या करना संभव नहीं है.

रमेशचंद्र का दावा है कि उनकी तपस्या के कारण ही पिछले 19 वर्षों से भारत में अच्छी बारिश हो रही है.

रमेशचंद्र ने राजकोट में मीडिया से बात करते हुए कहा,

SSPA को ये तय करना है कि मेरा एजेंसी में आना ज़्यादा ज़रूरी है या फिर अपने देश को सूखा प्रभावित होने से बचाना है. मैं कलकी अवतार हूं इसलिये भारत में अच्छी बारिश होती है.

कारण बताओ नोटिस के अनुसार रमेशचंद्र ने पिछले 8 महीनों में सिर्फ़ 16 दिन ही दफ़्तर पहुंचे हैं.

दफ़्तर न जाने के Creative बहानों का बाप है ये बहाना. ग़ौर करने वाली बात ये है कि सरदार सरोवर पुनर्वस्वत एजेंसी को 8 महीनों बाद होश आया कि उनका एक अधिकारी दफ़्तर से गायब है. ये एजेंसी सरदार सरोवर प्रोजेक्ट से प्रभावित लोगों के पुनर्वास के लिए काम करती है.

Source- NDTV