दिल्ली यूनिवर्सिटी की छात्रा 'गुमेहर कौर' तो आप सभी को याद होंगी, अगर गुरमेहर को लेकर आपकी यादें थोड़ी-सी धुंधली पड़ गई हैं, तो हम आपको याद दिला देते हैं.

रामजस कॉलेज में हुए विवाद के बाद गुलमेहर ने फ़ेसबुक पर एक तस्वीर शेयर की थी, जिसमें लिखा था, 'मैं दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ती हूं. मैं एबीवीपी से नहीं डरती. मैं अकेली नहीं हूं. भारत का हर छात्र मेरे साथ है. #StudentAgainstABVP.'

गुरमेहर की इसी पोस्ट के बाद से इस मामले ने तूल पकड़ लिया, जिसके बाद उन्हें सोशल मीडिया पर रेप की धमकी दी जाने लगी. इतना ही नहीं, गुरमेहर पर हमला बोलने के लिए उनका एक पुराना वीडियो भी सामने लाया गया, जिसमें उन्होंने भारत-पाकिस्तान के बीच शांति की अपील की थी. इस वीडियो में उन्होंने कहा था, 'मेरे पापा को पाकिस्तान ने नहीं बल्कि युद्ध ने मारा है.'

Image Source : southlive

मामले में बड़ी-बड़ी हस्तियों भी शामिल हो गई और विवाद बढ़ता देख गुरमेहर को चुप होना पड़ा.

लेकिन एक बार फ़िर से गुरमेहर वापस लौट आई हैं, इस बार उसने वापसी ही नहीं कि बल्कि मीडिया में उनके नाम का तमाशा बना रहे लोगों को मुंहतोड़ जवाब भी दिया है.

मंगलवार को गुरमेहर ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, 'आपने मेरे बारे में पढ़ा है, लेखों के अनुसार अपनी राय बनाई है. अब मैं अपने बारे में अपने शब्दों में बता रही हूं. मेरा पहला ब्लॉग जिसका शीर्षक है 'I AM'.

'मैं कौन हूं', ये बताते हुए गुरमेहर लिखती हैं कि 'कुछ दिनों पहले तक इस सवाल का जवाब मैं बड़ी आसानी और बिना हिचकिचाहट के साथ दे सकती थी, लेकिन अब मुझे अपने बारे में बोलने से पहले कई बार सोचना पड़ता है'.

क्या मैं वो हूं, जो मीडिया मेरे बारे में दिखाता है?

क्या मैं वो हूं, जो ट्रोल्स मेरे बारे में सोचते हैं?

क्या मैं वो हूं, जो सिलेब्रिटीज़ मेरे बारे में सोचते हैं?

मैं अपने शहीद पापा की बेटी हूं. मैं पापा की दुलारी और प्यारी बिटियां हूं. टीवी चैनलों पर चलने वाले पोल मुझे सही या गलत साबित नहीं कर सकते. पिछले 18 सालों से मेरे पापा मेरे साथ नहीं है. मैं उनका होना महसूस नहीं कर सकती. मैं अपने पिता को एक शहीद के तौर पर नहीं, बल्कि एक इंसान के तौर पर जानती हूं.

'मेरे पिता शहीद हुए हैं, मैं उनकी बेटी हूं, लेकिन 'मैं आपके शहीद की बेटी नहीं हूं'.

Source : bbc