बच्चों में हाथ साफ़ करने की आदत अच्छी मानी जाती है. मां-बाप भी बच्चों को Handwash के लिए प्रेरित करते हैं. टीवी पर भी कई ऐसे विज्ञापन दिखाए जाते हैं, जिनमें Sanitisers से हाथ साफ़ करना अच्छा बताया जाता है. बच्चों को इसके प्रति जागरूक करने के लिए 'बाल विकास और कल्याण' के लिए काम करने वाली एक अंतर्राष्ट्रीय संस्था ने तो अंतरराष्ट्रीय हाथ सफ़ाई दिवस मनाना भी शुरू करवा दिया है. अगर आपको पता चले कि बच्चों की ये आदत उनके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, तो आपको कैसा लगेगा? एक वैज्ञानिक ने Sanitisers पर रिसर्च कर ये पता लगाया है कि इसमें मौजूद Alcohol-Based और Scented प्रोडक्ट्स बच्चों को इसे निगलने पर मजबूर करते हैं. इस वजह से बच्चों को पेट में दर्द, उल्टी और कोमा में जाने जैसे गंभीर परिणाम हो सकते हैं.

US Centres for Disease Control (CDC) के शोधकर्ताओं ने ऐसा दावा किया है कि बहुत से बच्चे, जिन्होंने भूल से Sanitisers को निगला है, उनको पेट-दर्द, जी मिचलाना और कोमा में जाने जैसी भीषण समस्याएं देखने को मिली हैं. इस बात के निष्कर्ष तक पहुंचने के लिए शोधकर्ताओं ने 12 साल तक के कुछ बच्चों का 2011 से 2014 तक अध्ययन किया था. शोधकर्ताओं का विषय था, 'Alcohol Hand Sanitisers का बच्चों के स्वास्थ्य पर परिणाम'. इस रिसर्च के बाद इसका खुलासा किया गया कि Alcohol Hand Sanitisers या Non Alcohol Hand Sanitisers दोनों बच्चों के लिए Poison का काम करते हैं.

शोध में ऐसा पता चला कि 6 से 12 साल के बच्चे जानबूझकर Sanitisers को चखने की कोशिश करते हैं. शोध के अनुसार, 2011-2014 तक 12 साल के 70,669 बच्चों में से 65,293 बच्चों ने ऐसा किया. इस शोध के अनुसार, बस 8 प्रतिशत बच्चों ने ऐसा नहीं किया.

इन आंकड़ों से ये भी संकेत मिलता है कि गर्मी के मौसम में बच्चे Sanitisers का ऐसा इस्तेमाल कम करते हैं. अब आप भी अपने बच्चे पर नज़र रखिये और देखिये कहीं वो ऐसा तो नहीं कर रहा न. Sanitisers का काम अब बदल रहा है, वो हाथ के कीटाणुओं के साथ-साथ लोगों को मारने पर भी तुला है.

Feature Image: Quoracdn

Source: Ht