ऐसा जल्द ही संभव हो सकता है कि पंचर होने के बाद टायर ख़ुद-ब-ख़ुद ठीक हो जाएगा. दरअसल, वैज्ञानिकों ने एक ऐसी चीज़ का अविष्कार किया है, जो न सिर्फ़ बेहद मज़बूत है, बल्कि ख़ुद ब ख़ुद ठीक भी हो जाती है.

अमेरिका के Harvard John A. Paulson School of Engineering and Applied Sciences (SEAS) के शोधकर्ताओं ने खु़द ही ठीक होने वाला 'रबर' बनाया है, जो रिवर्सिबल बॉन्ड्स को सम्मिलित करने के लिए जल पर निर्भर है और Damaged हिस्से को ठीक करने में मददगार है.

Image Source : thehansindia

रबर Polymers से बना होता है, इसीलिए अकसर सहसंयोजकों (Covalent Bonds) के कारण स्थिर रहता है. ये बॉन्ड काफ़ी मज़बूत होते हैं और एक बार टूटने के बाद दोबारा नहीं जुड़ते. स्वयं ही ठीक होने वाले रबर के निर्माण के लिए टीम को बॉन्ड्स को रिवर्सिबल पॉलिमर्स (प्रतिवर्ती बहुलकों) से जोड़ने की आवश्यकता थी, ताकि बॉन्ड्स टूटकर खु़द ही दोबारा बन जाएं.

SEAS के Li-Heng Cai कहते हैं, 'पिछले शोध में Polymers को जोड़ने के लिए रिवर्सिबल हाइड्रोज़न बॉन्ड्स का इस्तेमाल हुआ था, लेकिन रिवर्सिबल बॉन्डस की अपेक्षा कोवेलेन्ट बॉन्ड्स कमज़ोर होते हैं. इसी परिणाम को देखते हुए, हमने सोचा कि क्या हम ऐसी किसी चीज़ का निर्माण कर सकते हैं जो स्वंय ठीक हो जाए?'
Image Source : harvard

Cai और चीन की Sichuan University के प्रोफ़ेसर Jinrong Wu और उनके सहयोगियों ने सहसंयोजक और प्रतिवर्ती दोनों बॉन्ड्स से एक हाइब्रिड टायर बनाया.

इन दोनों बॉन्ड्स को एक साथ बांधने के लिए शोधकर्ताओं ने एक मॉलिक्यूलर रोप बनाई. ये रस्सी इन दोनों अमिश्रणीय बॉन्ड्स को एक आणविक (Molecular) सीमा में मिश्रित होने देती है. ऐसा करने पर वे एक पारदर्शी, मज़बूत और ख़ुद Repair होने वाले रबर का निर्माण करने में सक्षम हो जाते हैं.

National Science Foundation, Materials Research Science and Engineering Center (MRSEC) और National Institute of Health/National Heart, Lung and Blood Institute का सपोर्ट भी मिला है.

Source : inhabitat

Feature Image Source : premium