सर्दियां आने से पहले ही डेंगू का ख़तरा बहुत अधिक बढ़ जाता है. ये एक ऐसी गंभीर बीमारी है, जिससे हर साल देश में हज़ारों लोगों की मौत हो जाती है. डेंगू मच्छरों के कारण होता है, इसलिए हमें अपने आस-पास सफ़ाई करने की बहुत ज़रूरत है ताकि डेंगू के मच्छर उसमें न पनपे. इसके अलावा इस बीमारी के बारे में हर छोटी से छोटी और बड़ी से बड़ी जानकारी होना भी ज़रूरी है, तो डेंगू (Dengue) कैसे होता इसके लक्षण क्या है और इससे बचने के उपाय क्या हैं? सबकुछ फटाफट जान लो.

Source: tv9hindi

बदलते मौसम के चलते डेंगू के मामले दिन पर दिन बढ़ रहे हैं. अगर सिर्फ़ दिल्ली की बात करें तो अब तक डेंगू के हज़ार से अधिक मामले सामने आ चुके हैं, जो 2018 में के बाद से सबसे अधिक मामले हैं. रिपोर्ट के अनुसार, पिछले तीन सालों में 1 जनवरी से 16 अक्टूबर तक 2020 में 489, 2019 में 833 और 2018 में 1,310 डेंगू के मामले दर्ज किए गए थे.

ये भी पढ़ें: Diabetes क्या है, क्यों होती है और कैसे बचा जाए, सारी ज़रूरी बातों का जवाब यहां है

डेंगू कैसे फैलता है और कब होता है?

Source: patrika

जुलाई से अक्टूबर के बीच में डेंगू बहुत तेज़ी से फैलता है. ये मादा मच्छर एडीज इजिप्टी (Aedes Aegypti) के काटने से होता है. इस मच्छर की पहचान उसके शरीर पर चीतें जैसी धारियों से होती है. ये मच्छर ज़्यादा ऊंचा नहीं उड़ पाता है. डेंगू एक इंसान से दूसरे इंसान में इसी मच्छर की वजह से जाता है, जब ये मच्छर किसी डेंगू से पीड़ित व्यक्ति को काटता है तो वो उसका ख़ून चूस लेता है. इस तरह से जब ये संक्रमित मच्छर किसी और व्यक्ति को काटता है वो भी डें वायरस से पीड़ित हो जाता है. 

डेंगू के लक्षण

Source: tosshub

स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो, डेंगू शुरू शुरू में फ़्लू की तरह ही होता है, क्योंकि एडीज़ इजिप्टी मच्छर के काटने का प्रभाव तुरंत नहीं दिखता है. इस वजह से लोग समझ नहीं पाते हैं. इसका प्रभाव 4 से 10 दिनों के बाद दिखता है. एक बार डेंगू से संक्रमित हो चुके लोगों को दोबारा भी संक्रमण हो सकता है. 

ये भी पढ़ें: सामान्य लगने वाले ये 10 लक्षण Anxiety का कारण बन सकते हैं, इन्हें नज़रअंदाज़ न करें

तेज़ बुखार आने के साथ-साथ ये लक्षण भी दिखाई देते हैं:

1. गले में समस्या होना

throat pain
Source: gc-img

डेंगू के आसार होने पर गले में हल्का-हल्का दर्द होना शुरू हो जाता है. दर्द के बढ़ने से पहले डॉक्टर से सलाह ज़रूर कर लें.

2. हड्डी या जोड़ों में दर्द

joints pain
Source: healthline

बाकी फ़्लू की तरह डेंगू होने पर भी शरीर में दर्द होना शुरू हो जाता है. ये दर्द सबसे ज़्यादा हड्डी और जोड़ों में होता है.

3. सिर दर्द होना

Headache
Source: medicalnewstoday

डेंगू के एक अन्य लक्षण में सिर दर्द भी आता है, जब दर्द असहनीय हो जाए तो एक बार डॉक्टर से सलाह ज़रूर कर लें.

4. पेट की समस्या

stomach problem
Source: theayurvedam

डेंगू में लीवर का आकार बढ़ जाने से पेट में पानी की अधिकता हो जाती है, जिससे पेट में दर्द की शिकायत अधिक रहती है.

5. मतली और उल्टी आना  

vommiting
Source: babycenter

6. त्वचा पर रैशेज़ होना

skin rashes
Source: therecoveryvillage

शरीर में चेचक जैसे लाल रंग के चकत्ते पड़ने लगते हैं तो ये भी डेंगू का एक लक्षण हो सकता है. आमतौर पर डेंगू होने पर लाल रंग के चकत्ते (Rashes) चेहरे, गर्दन और छाती पर होते हैं.

7. आंखों के पीछे वाले हिस्से में दर्द होना 

eyes problem
Source: cloudfront

डेंगू की समस्या होने पर बहुत तेज़ बुख़ार आता है, जिसके कारण आंखों के पीछे दर्द होने लगता है. 

8. बहुत ज़्यादा कमज़ोरी का एहसास होना

weakness
Source: helpguide

डेंगू होने पर शरीर टूटने लगता है, जिसकी वजह से थकान और कमज़ोरी महसूस होती है. इसके साथ ही लोगों को उल्टी, जी मिचलाने की समस्या भी होने लगती है.

9. भूख लगना बंद हो जाती है

Hunger issue
Source: gorodokboxing

डेंगू होने पर पेट से जुड़ी कई समस्याएं होने लगती हैं उन्हीं में से एक भूख न लगना भी है. खाने का मन बिल्कुल नहीं होता है.

10. मुंह का स्वाद ख़राब होना

bitter taste in mouth
Source: medicalnewstoday

कोई भी बुख़ार हो जाने पर मुंह का स्वाद बिगड़ जाता है. कुछ भी खाओ सब फीका फीका लगता है. ऐसा ही डेंगू में भी होता है.

वैसे तो डेंगू से संक्रमित लोग एक या दो हफ़्ते के अंदर ठीक हो जाते हैं, लेकिन जिन्हें समय पर इलाज नहीं मिलता है उनकी समस्या बढ़ने लगती है. जैसे, पेट में असहनीय दर्द होना, उल्टी बंद न होना और पेशाब या उल्टी में ख़ून आना ये स्थिति जानलेवा हो सकती है. इसलिए इसके लक्षणों को पहचान कर तुरंत इलाज कराएं.
Dengue patient
Source: langimg

डेंगू का इलाज

डेंगू की आशंका होने पर डॉक्टर सबसे पहले ख़ून की जांच कराने को कहते हैं. इसके बाद डेंगू होने पर इसके लक्षणों के आधार पर इलाज शुरू होता है. स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक, डेंगू बुखार के लिए कोई अलग से इलाज नहीं है. डॉक्टर बस सबसे ज़्यादा तरल पदार्थ लेने की सलाह देते हैं. डेंगू में प्लेटलेट्स की मात्रा में भी गिरने लगती है ऐसे में मरीज़ को ज़्यादा बेहतर इलाज की ज़रूरत होती है.

dengue treatment
Source: biovoicenews

डेंगू से कैसे बचें?

डेंगू से सुरक्षित रहने के लिए जितना हो सके दिन में फ़ुल कपड़े पहनें. क्योंकि डेंगू के मच्छर दिन में सबसे ज़्यादा काटते हैं. इसके अलावा, डेंगू के मच्छर पानी में ज़्यादा पनपते हैं तो पानी को एक जगह पर इकट्ठा होने न दें. इन बातों का ध्यान रख कर डेंगू जैसी ख़तरनाक बीमारी से बचा जा सकता है.

wear full sleeve dress
Source: self

आपको बता दें, गर्भवती महिलाओं को डेंगू होने पर पेट में पल रहे शिशु को भी वायरस फैलना का ख़तरा रहता है. इसलिए गर्भावस्था के दौरान बहुत सावधानी बरतनी चाहिए.