भारतीयता से हिन्दुत्व को जोड़ने वाले ये हर बार भुल जाते हैं कि हिन्दुस्तान कभी सिर्फ़ हिन्दुओं का देश नहीं रहा. जिन किताबों और पोथियों के दम पर आज हिन्दू राष्ट्र कायम करने की बात की जा रही है, वो समय कुछ और था.

आए दिन देश को बचाने के नाम पर ऊल-जलूल बयान देने का सिलसिला जारी है. इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए सनातन धर्म महासंग के कर्ता-धर्ता, स्वामी प्रबोधनानंद गिरी ने हिन्दुओं को हम दो और हमारे आठ की नीति अपनाने की सलाह दी है. हिन्दू धर्म को बचाने के लिए आठ बच्चे पैदा करने की हिदायत दी गई है. स्वामी ने ये सलाह उत्तर प्रदेश के संभल ज़िले के लाखीपुर गांव में दी है.

स्वामी के शब्दों में,

'आज के समय में हिंदुत्व को बहुत बड़ा खतरा है और इसे बचाना हर हिन्दू का धर्म है. धर्म की रक्षा के लिए हर हिन्दू दंपत्ति को 8 बच्चे पैदा करना चाहिए. ज़्यादा बच्चे पैदा करने से हिन्दू धर्म को संरक्षित किया जा सकता है. हिन्दुओं को हम दो, हमारे आठ फॉर्मूला अपनाना चाहिए.'

ये कार्यक्रम पवन वन विहार आश्रम द्वारा आयोजित किया गया था. स्वामी ने यहां ये भी जानकारी दी कि हिन्दुओं की रक्षा के लिए 'हिन्दू रक्षा दल' का भी गठन किया जाएगा.

स्वामी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भी तारीफ़ों के पुल बांधे और कहा कि योगी इतिहास रचेंगे. गौ हत्या पर रोक लगाकर उन्होंने शुरुआत कर दी है.

स्वामी प्रबोधानंद गिरी ख़ुद शादीशुदा हैं या नहीं, ये जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं है. पर इनके Attention के लिए दिए गए बयान से कई सवाल मन में पैदा हो रहे हैं:

1) क्या ये तथाकथित स्वामी हर दंपत्ति के आठ बच्चों की ज़िम्मेदारी लेंगे?

2) क्या इनको अंदाज़ा भी है कि एक बच्चे को पैदा करने में कितना ज़्यादा दर्द होता है?

3) अगर इन्हें हिन्दू धर्म की इतनी चिंता है, तो हज़ारों हिन्दू भूखे-नंगे सड़कों पर पड़े रहते हैं, तब इनकी बड़ी-बड़ी बातें कहां जाती हैं?

4) क्या ये बेरोज़गार हिन्दुओं को नौकरी दिला सकते हैं?

सवाल तो कई हैं पर ये महानुभाव शायद ही जवाब दें.

Source: Scoop Whoop