बरेली के प्रेमनगर में कुछ हिंदू और मुसलमानों ने शहर की मस्जिदों में रोज़ सुबह प्रयोग होने वाले, लाउडस्पीकर को लेकर स्थानीय प्रशासन में शिकायत दर्ज कराई है. दरअसल, प्रेमनगर में करीब सात मस्जिद हैं. इन मस्जिदों में सुबह 3 बजे से सहरी नमाज़ के वक़्त लाउडस्पीकर का इस्तेमाल किया जाता है. लाउडस्पीकर के शाेर की वजह से कई लोग ढंग से सो नहीं पाते. हिंदू और मुस्लिम समाज के लोगों ने प्रशासन में शिकायत दर्ज कराते हुए, मस्जिदों से लाउडस्पीकर हटाने या फिर सहरी के वक़्त इसे बंद रखने की मांग की है.

इस शिकायत के बाद, अधिकारियों ने इस मसले को मस्जिद प्रशासन के साथ उठाने का फैसला किया है. प्रशासन मस्जिदों से या तो आवाज़ कम करने या फिर बंद करने का निवेदन कर सकता है.

एडीएम अलोक कुमार ने बताया, 'मैने पुलिस अधीक्षक को मामले की जांच के निर्देश दे दिए हैं. इसके साथ ही मसले को सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस के तहत सुलझाने को भी कहा है. या तो लाउडस्पीकर को मस्जिदों से हटाया जाएगा या फिर उसे काफ़ी धीमी आवाज़ में बजाया जायेगा.'

सुप्रीम कोर्ट ने लाउडस्पीकर बजाए जाने को लेकर विशेष गाइडलाइन जारी की है. अदालत के निर्देश के मुताबिक, रात 10 बजे से लेकर सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि किसी की नींद में खलल को मानवाधिकार का उल्लंघन माना जाएगा.

Source : indiatimes