जहां अपने रोज़मर्रा के कामों में दाएं हाथ से काम करना बहुत आसान होता है, वहीं हमारे बीच कई लोग Left Handed भी हैं. आसानी तो उन्हें भी है क्योंकि बचपन से ही आदत होती है लेकिन फिर भी किसी न किसी काम में कठिनाई आ ही जाती है.

मुंबई में रहने वाली श्वेता सिंह को इस बात का एहसास तब हुआ जब उन्होंने अपनी साढ़े चार साल की छोटी बेटी को इस वजह से रोते हुए देखा कि वो अपनी Pencil शार्प नहीं कर पा रही थी क्योंकि वो Left-Handed थी. ऑनलाइन ढूंढ़ने पर उन्हें Left-Handed बच्चों के लिए स्टेशनरी आइटम्स तो मिले लेकिन बहुत ही महंगे. सिर्फ़ एक छोटे से शार्पनर की क़ीमत ही 700 से 1200 रुपये के बीच थी.

इसके बाद श्वेता सिंह ने नटराज और अप्सरा पेंसिल्स बनाने वाले Hindustan Pencils Pvt. Ltd. को एक ख़त लिखते हुए अपनी समस्या ज़ाहिर की. एक सप्ताह के अंदर ही उन्हें एक वरिष्ठ अधिकारी का कॉल आया जिन्होंने जल्द से जल्द मदद करने का आश्वासन दिया. कुछ ही दिनों में श्वेता को एक पैकज मिला जिसमें उनकी बेटी के लिए ख़ास-तौर पर डिज़ाइन करे गए पांच शार्पनर्ज़ थे. साथ आये एक पत्र में लिखा था, 'हालांकि हम Left-Handed बच्चों के लिए शार्पनर्ज़ का Regular उत्पादन नहीं करते हैं लेकिन अपनी R&D टीम के माध्यम से हम आपके लिए ये विशेष रूप से तैयार शार्पनर्ज़ भेज रहे हैं. इनके नियमित उत्पादन पर हम काम कर रहे हैं और मार्किट में रिलीज़ करते समय हम आपसे ज़रूर संपर्क करेंगे'.

फ़ेसबुक पर अपना ख़ूबसूरत अनुभव साझा करते हए, श्वेता ने Hindustan Pencils Pvt. Ltd. का शुक्रिया अदा किया और देखते ही देखते ये पोस्ट वायरल हो गया. अब तक इस पोस्ट को 24000 लाइक्स और 8400 शेयर्स मिल चुके हैं.

ट्विटर पर भी लोगों ने Hindustan Pencils Pvt. Ltd. की ख़ूब सराहना करी है.

Source: NDTV