साल 2010 में अरशद वारसी, नसीरुद्दीन शाह और विद्या बालन की एक फ़िल्म 'इश्किया' रिलीज़ हुई थी. इस मूवी का एक गाना बहुत फ़ेमस हुआ था. 'इब्न बतूता, बगल में जूता, पहने तो करता है चुर्र...'

इस गाने को 10 साल से ज़्यादा हो गए. आज भी लोग इसे गुनगुनाते मिल जाते हैं. मगर क्या आपने कभी सोचा है कि आख़िर ये इब्न बतूता (Ibn Battuta) कौन था? नहीं, तो चलिए आज हम आपको बताए देते हैं.

लेकिन उससे पहले आप ये गाना एक बार सुन लीजिये: 

ये भी पढ़ें: वो 10 महान यात्री, जिनकी साहसिक यात्राओं ने खोले दुनिया के लिए नए दरवाज़े

इब्न बतूता को जानना है, तो इतिहास में जाना होगा

ये बात 14वीं शताब्दी की है. साल 1304 में मोरक्को में एक इब्न बतूता नाम का शख़्स पैदा हुआ. बस समझ लीजिए कि इस गाने की ही तरह मस्तमौला आदमी था. दुनिया घूमने का शौक़ था. घुमक्कड़ी की ऐसी आदत थी कि पूरी दुनिया नापने निकल पड़ा था. 

Ibn Battuta
Source: googleusercontent

दरअसल, उस वक़्त लोग बाहर घूमने के नाम पर केवल धार्मिक यात्राएं ही करते थे. मगर इब्न-ए-बतूता वास्तव में दुनिया घूमने और समझने निकला था. वो भी महज़ 21 साल की उम्र में. हालांकि, वो एक इस्लामिक स्कॉलर था. घूमने भी वो हज यात्रियों के साथ ही गया था. मगर लौटा नहीं. उसने तय किया कि वो बाकी की दुनिया भी देखेगा. 

30 साल तक करता रहा ट्रैवल

travelers
Source: mozfiles

इब्न बतूता ने अफ्रीका, एशिया और दक्षिणपूर्वी यूरोप के अधिकतर हिस्सों में यात्रा की थी. अपनी यात्रा में वो उत्तरी अफ्रीका, मिस्र, अरब, फ़ारस, अफ़गानिस्तान तक गए. यहां तक वो हिमालाय को पार कर भारत, चीन, दक्षिण-पूर्व एशिया, मालदीव तक घूमे.  

1332 की आख़िर में वो भारत पहुंचा. उस वक़्त मुहम्मद बिन तुगलक का शासन था, जिन्होंने उसका गर्मजोशी से स्वागत किया. इब्न बतूता कुछ वक़्त तक सुल्तान के दरबार में भी रहा. उसने 30 वर्षों में लगभग 1,20,000 किलोमीटर की दूरी तय की. 

travel
Source: twitter

उसकी इस यात्रा का का सारा लेखा-जोखा ‘रिहला’ में पढ़ा जा सकता है. जिसका मतलब होता है सफ़रनामा. इसमें आपको उन सभी जगहों के लोगों की ज़िंदगी, खान-पान से लेकर रहन-सहन तक पढ़ने को मिलेगा. साथ ही, इस किताब में ये भी ज़िक्र है कि इब्न बतूता ने अपनी यात्राओं के दौरान क़रीब 10 बार शादी की. अफ़्रीका, यूरोप और एशिया में उनके बच्चे भी हुए.

इब्न बतूता अपने मूल देश मोरक्को वापस कब लौटा, इसको लेकर विवाद है. हालांकि, माना जाता है कि वो साल 1349 में अपने देश पहुंच गया था. अपने घर से वो काफ़ी अरसा दूर रहा था. उसके घर पहुंचने के कुछ ही महीने पहले उसकी मां का निधन हो गया था. वहीं, क़रीब 15 साल पहले पिता की मौत हो चुकी थी.