Sardar Vallabhbhai Patel: आज़ादी के समय अलग-अलग रियासतों में बंटे देश को एक करने वाले ‘लौह पुरुष’ सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती है. देश के आज़ाद होने के साथ ही नई सरकार के गठन का काम भी शुरू हो गया था. देश के पहले प्रधानमंत्री बनने की रेस में सबसे आगे थे सरदार वल्लभ भाई पटेल, लेकिन गांधी जी के कहने पर उन्होंने ये पद त्याग कर देश का पहला गृह मंत्री बनना स्वीकार किया.

vallabhbhai patel
Scroll

स्वतंत्रता सेनानी सरदार वल्लभ भाई पटेल के त्याग की ये कहानी तो हर किसी को पता है, लेकिन उन्होंने अपने निज़ी जीवन में भी कई त्याग किए हैं. उसी से जुड़ा एक क़िस्सा हम आपको बताएंगे.

इंग्लैंड से करना चाहते थे पढ़ाई

vallabhbhai patel
bharatshakti

बात उन दिनों की है जब 22 साल की उम्र में मैट्रिक पास कर सरदार वल्लभ भाई पटेल एक वकील के सहायक के रूप में काम कर रहे थे. उनका भी सपना था कि वो भी एक बड़े वकील बनें. वो वकालत की पढ़ाई इंग्लैंड से करना चाहते थे. उस दौर में इस सपने को पूरा करने के लिए 7-10 हज़ार रुपये की ज़रूरत थी. 

ये भी पढ़ें: मदनलाल ढींगरा: वो स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने देश की आज़ादी के लिए 25 की उम्र में गंवा दी थी जान

Sardar Vallabhbhai Patel

sardar vallabhbhai patel
Prabhatkhabar

इसके लिए वो बचत करने लगे, उनकी पत्नी ने भी इसमें उनकी मदद की और गै़र-ज़रूरी ख़र्चों पर लगाम लगाई. 4 साल की बचत के बाद उनके पास विदेश में पढ़ाई करने के लिए पैसे जमा हो गए. डाक से वीज़ा और टिकट मिलने का इंतज़ार था. डाकिया ये सुखद समाचार लाया भी लेकिन उन तक पहुंचा न सका.

ये भी पढ़ें: Biju Patnaik: पढ़ें देश को आज़ादी दिलाने से लेकर विकास की पटरी पर लाने वाले बीजू पटनायक की कहानी

बड़े भाई यहां पहुंच गया टिकट और वीज़ा

दरअसल, नाम के कंफ़्यूजन में वो टिकट और वीज़ा उनके बड़े भाई विट्ठल भाई पटेल के घर दे आया. दोनों के नाम एक जैसे थे और नाम के शुरुआती अक्षर V.B. थे. अब जब बड़े भाई को पता चला कि छोटा भाई इंग्लैंड पढ़ने जा रहा है तो उनका भी वहां जाने के लिए लालायित हो उठा. वो भी वकील थे और वहां पढ़ने की हसरत रखते थे.

भाई के लिए त्याग दिया अपना सपना

sardar vallabhbhai patel
zeenews

इंग्लैंड से पढ़कर आए वकील की समाज में हैसियत ही अलग होती थी, तो उन्होंने छोटे भाई को समझाया कि वो उन्हें जाने दें. सरदार वल्लभ भाई पटेल के बड़े भाई ने समझाया कि पहले उन्हें पढ़ आने दें और बाद में वो चले जाएं. घर-परिवार की प्रतिष्ठा की भी बातें उनसे कही. भलमनसाहत में छोटे भाई ने बड़े भाई की खातिर ये त्याग कर दिया और ख़र्चे के लिए जुटाए पैसे भी उनको दे दिए.

36 साल की उम्र में सपना हुआ पूरा

sardar vallabhbhai patel
hindustantimes

इंग्लैंड जाने का मौक़ा हाथ से चला गया, लेकिन उनका सपना अभी टूटा नहीं था. उन्होंने घर की ज़िम्मेदारियों को उठाते हुए फिर से पैसे इक्कठे करना शुरू किए. उनके बड़े भाई 30 महीने में डिग्री लेकर आए थे. सरदार वल्लभ भाई पटेल को जब 36 की उम्र में ये सपना पूरा करने का अवसर प्राप्त हुआ तो उन्होंने अपनी मेहनत और लगन के दम पर कोर्स को 2 साल में ही कंप्लीट कर लिया. साथ उसमें टॉप कर भारत लौट आए. 

sardar vallabhbhai patel
bbci

चाहे निजी जीवन हो या प्रोफ़ेशनल ज़िंदगी सरदार वल्लभ भाई पटेल ने हमेशा त्याग कर दूसरों को मौक़ा दिया. उनके जैसा अद्भुत इंसान भारत में आज के समय में मिलना दुर्लभ है.