भारी बारिश की वजह से केरल बुरी तरह से डूब रहा है और राज्य में रेड अलर्ट घोषित कर दिया गया है. अब तक 80 से ज़्यादा जानें जा चुकी हैं, 59,000 हज़ार लोग विस्थापित हो चुके हैं, 200 से ज़्यादा राहत शिविर लगाए हैं. आप इससे अंदाज़ा लगा सकते हैं कि इस राज्य में बाढ़ की क्या स्थिति है.

Source: Hindustantimes

केरल का कोच्चि एयरपोर्ट पूरी तरह से बाढ़ में डूब चुका है और तीन दिन के लिए वहां किसी भी तरह का ऑपरेशन बंद कर दिया गया है. नेशनल मीडिया पर तस्वीरें और वीडियो देख कर ये अंदाज़ा भर लगाया जा सकता है कि इस राज्य पर पहली बार प्रकृति का कहर इस रूप में टूटा है.

Source: Financialexpress

यहां की सरकार, राष्ट्रिय आपदा राहत बल और सेना स्थिति से निपटने में जुटी हुई है और बखूबी से अपना काम कर रहे हैं. दुःख और भय की इस स्थिति में इंसानियत की ऐसी कहानियां सामने आयी हैं, जिन्होंने ये यकीन दिलाया है कि कोई भी आपदा या मुसीबत इंसानी जज़्बे से बड़ी नहीं होती.

Source: Facebook

इन 5 घटनाओं ने केरल में मानवता को साथ ला खड़ा किया है:

1. कंबल दान

मध्य प्रदेश के एक व्यवसायी ने बेचने के लिए 50 कंबल ख़रीदे थे, लेकिन केरल में बाढ़ पीड़ितों की हालत देखकर उसने अपना पूरा स्टॉक उनकी मदद के लिए बांट दिया.

2. नीले कोट वाला ऑफ़िसर

मीडिया के कैमरे में एक ऐसे सुपरहीरो की तस्वीर क़ैद हुई, जिसने बाढ़ के कहर से टूट रहे पुल पर एक बच्चे को बचा लिया। नीले रेनकोट में भागता ये हीरो कैमरे की नज़र में आ गया और अपनी जान पर खेलते हुए बच्चे को बचा लिया। ये व्यलक्ति आपदा प्रबंधन टीम का एक अफ़सर था और इस वीडियो के बाहर आते ही चारों-तरफ़ उसकी तारीफ़ हुई.

3. प्रतिद्वंदी भी साथ खड़े हुए

मैदान पर चाहे Bengaluru Football Club (BFC) केरल के ख़िलाफ़ जान लगा देती है लेकिन केरल की इस विपदा की घड़ी में उसके Competitor भी साथ में थे. BFC ने खेल भावना और मानवता को आगे बढ़ाते हुए केरल के लिए ज़रूरी सामान दान किया और फेसबुक पोस्ट के ज़रिये लोगों से मदद की अपील भी की.

4. पहली सैलरी दान की

Source: News18

निपाह वायरस के संक्रमण में आकर अपनी पत्नि को खोने वाले Sajeesh ने अपनी पहली तनख्वाह राहत कोष में जमा कर दी. Sajeesh की पत्नि Lini Puthussery वो नर्स थीं, जो केरल में निपाह वायरस से ग्रस्त मरीज़ के इलाज के दौरान ख़ुद भी उसके संपर्क में आ गई थी.

5. राजनीति से ऊपर जनता है

पार्टी के मतभेद को भूलकर मुख्यमंत्री Pinarayi Vijayan के साथ विपक्ष के नेता Ramesh Chennithala ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण किया और उनके बीच गए. वहां घोषणा की गई कि अपना घर खोने वाले हर पीड़ित को मुआवज़े में 4 लाख रुपये दिए जाएंगे.

Source: Facebook

केरल इस समय बड़े प्राकृतिक संकट से गुज़र रहा है और राहत कार्य के लिए राज्य को पैसों की ज़रूरत है. केंद्र सरकार की मदद के अलावा आप जिस भी तरह से इन्हें Support कर पाएं, ज़रूर करें.