बॉलीवुड में जो फ़ॉर्मूला हिट हो जाता है सब उसको निचोड़ लेते हैं, अभी तीन तरह की फ़िल्में खुब बनाई जा रही हैं. दक्षिण भारत की फ़िल्मों का रीमेक, किसी पुरानी हिन्दी फ़िल्म का ही रीमेक और बायोपिक.

ऐसे में हमने भी बायोपिक वाले फ़ॉर्मुले को पुरानी हिन्दी फ़िल्म वाले फ़ॉर्मूला में मिला कर अपना आर्टिकल चलाने की कोशिश कर डाली. फ़िल्म नहीं बना सकते इसलिए पोस्टर ही बना दिए हैं. पोस्टर्स हैं उन प्रसिद्ध हस्तियों के लिए जिनकी बायोपिक अभी तक नहीं बनी.

शत्रुधन सिन्हा

बिहारी बाबू भाजपा में रहते हुए भाजपा के ख़िलाफ़ सीना ठोक पर बोलते रहते हैं, इनकी बग़ावत के सुर कभी बंद ही नहीं होते, इनके ऊपर बाग़ी से बेहतर फ़िल्म नहीं हो सकती.

राहुल गांधी

देश में परिवारवाद के झंडाबरदार और कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी को अपनी राजनीति विरासत में मिली है. साथ में कुछ 'नंदू' जैसे कुछ चमचे भी.

विरुष्का

विराट और अनुष्का के नाम तक एक हो चुके हैं. लोग इस बात पर आपत्ति जता सकते हैं कि अनुष्का शर्मा की अपनी पहचान है लेकिन Mr. And Mrs. Khiladi ज़्यादा कूल लग रहा था.

शशि थरूर

रेन एंड मार्टिन को अंग्रोज़ी सिखाने वाले शशि थरूर की बायोपिक बनी, तो उसमें उनकी इंग्लिश का ज़िक्र ज़रूर आएगा.

रणवीर सिंह

सबके प्यारे और बॉलीवुड के अतरंगी स्टार रणवीर सिंह जैसे कपड़े पहनते हैं ऐसा लगता है कि अभिनय करने के अलावा साथ में कोई नौटंकी कंपनी भी चला रहे हैं.

रणबीर कपूर

कैलेंडर के हिसाब से गर्लफ़्रेंड बदलने वाले रणबीर को किसी और की फ़िल्म करने की ज़रूरत ही नहीं पड़ेगी उन्हें अपनी ही फ़िल्म का सीक्वल बनाना होगा.

हार्दिक पांडया

काफ़ी विद करण नाम का एक शो है, उस पर कुछ दिन पहले हार्दिक पांड्या गए थे और ये उनकी ज़िंदगी की सबसे तगड़ी कॉफ़ी थी, ये फ़िल्म उसी सच्ची घटना से इंस्पायर्ड होगी.

रवि शास्त्री

भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री रोमांचक मैच नहीं झेल पाते ऐसा उन्होंने ख़ुद एक पोस्ट मैच इंटरव्यू में कहा था, उनके बोल थे- कुछ देर के लिए गोटी मुंह में आ गई थी.

अर्णव गोस्वामी

टीवी की दुनिया के बेताज बादशाह अर्णव गोस्वामी के सामने सबकी बोलती बंद हो जाती है क्योंकि ये सबके वॉल्युम को कम करवाकर अकेले चिल्लाते हैं.

संबित पात्रा

जिन लोगों ने संबित पात्रा को टीवी पर बोलते सुना है वो जानते हैं कि उनके लिए कौनसी फ़िल्म बेस्ट रहेगी.

थग्स ऑफ़ हिंदोस्तान

पहली वाली तो पिट गई, दूसरी बन ही नहीं पाएगी क्योंकि इसके एक्टर शूटिंग के दौरान ही निर्देशक के पैसे लेकर भाग जाएंगे और फ़िल्म कभी पूरी कंप्लिट नहीं होगी.

स्मृति इरानी

इस धाकड़ नेता ने कुछ दिनों पहले कहा था कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजनीति से रिटायरमेंट ले लेंगे तब वो भी राजनीति से सन्यास ले लेंगी.

अगर आपको ये आर्टिकल पसंद आया है तो कमेंट बॉक्स में ज़रूर बताएं, हम भी सीक्वल बनाएंगे.