आज इस देश के यूथ के पास क्या है? न रोज़गार, न अच्छी शिक्षा और न ही गोवा का टिकट. तड़प-तड़प कर ज़िंदगी गुज़र रही है. ऐसे में दो ही चीज़ें हमारे पास हैं, जिनके सहारे हम अपना दर्द कुछ कम कर पाते हैं. पहली बिरयानी और दूसरी मैगी.

Source: mensxp

बिरयानी के साथ तो हमारी ऐसी फ़ीलिंग चिपकी है कि कोई ससुरा इस शब्द के आगे-पीछे अगर वेज जोड़ दे तो हम बवाल काट देते हैं. मने बीच चौराहे झंडा गाड़कर क्रांति लिखना तय. लेकिन इसके बावजूद लोग अपनी ढिठई से कहां बाज़ आते हैं.

इस बार तो हद ही कर दी है. मैगी और बिरयानी दोनों को ही फ़ूड क्रिएटिविटी का शिकार बनाया गया. ऐसी क्रिएटिविटी जिसे देखकर बापू भी हिंसक हो लेते. पकड़कर टांग देते मरोड़ और फिर मुंह पे अपनी महीन कोहनी और घुटना अलग जड़ते.

Source: pinterest

दरअसल, एक ट्विटर यूज़र ने एक मैगी की फ़ोटो शेयर की है. ये मैगी कोई ऐसी-वैसी नहीं बल्कि बिरयानी फ़्लेवर्ड मैगी है. अपने दोनों प्रिय खाद्य पदार्थों के साथ ऐसी दुष्टता और क्रूरता देख ट्विटर का पूरा प्राणि जगत त्राहिमाम—त्राहिमाम कर रहा है.

मसला क्या है न कि या तो ये कॉम्बो बहुत जबर होगा या फिर इसे खाने के बाद जूते जैसी शक्ल हो जाएगी. मने बीच का कुछ मामला होगा नहीं. ऐसे में बिरयानी के दीवानों को लग रहा है कि साल 2020 में पहले ही पनौतियां कम थीं कि एक नई चीज़ चरस बोने आ पहुंची है. ट्विटरवासी कुछ यूं रिएक्ट कर रहे हैं.

वैसे इस बिरयानी फ़्लेवर्ड मैगी पर आपकी क्या राय है, हमें कमंट्स बॉक्स ज़रूर बताएं.