दिल्ली तो दिलवालों की थी न? ये दंगेवालों की कैसे हो गई?