'जिसका काम उसी को साजे' इस कहावत का अर्थ समझाने की ज़रूरत तो है नहीं. वैसा नहीं पता है, तो इतना समझ लो जो काम नहीं आता है उसमें हाथ नहीं डालना चाहिये. जिस काम को अच्छे से करना जानते हो वही करो. वरना तो अर्थ का अनर्थ हो सकता है. जैसे ये लोग बिना सोचे समझे रसोईया बनने चले थे. किचन में जाते ही आतंक मचा दिया.

उदाहरण के रूप में ये देख लीजिये:

1. हैलो पत्ते खा लो

2. तेज़ भूख लगने पर इसे खायें

3. बर्थडे केक बनाने की नाकाम कोशिश

4. लो जी पेश है सलाद

5. ब्रेड का एक रूप ये भी

6. कुकीज़ के साथ ये क्या कर दिया भाई?

7. Lego केक खाना है क्या?

8. आंख दिखाता है रे

9. इसकी क़ीमत $10 है

10. इस लेमन टी को पी कर दिखाओ तो जाने

11. हाय राम!

12. So Sweet...

13. किसी का बॉस हर दिन यही लंच करता है!

14. Michelin स्टार चीज़ खानी है किसी को!

15. कौन सा बेहतर है!

16. ये कैसा चॉकलेट केक है!

17. ऐसा पिज्ज़ा देख कर दुख हुआ

18. अंडा-ब्रेड खाना है क्या?

19. पहली दफ़ा चीज़ केक ऐसा बनता है

20. पीनट बटर और जैली सैंडविच