पुलिस का नाम सुनते ही अच्छे-अच्छों की हेकड़ी निकल जाती है. उत्तर प्रदेश पुलिस भी अपने कुछ अच्छे, तो कुछ बुरे कारनामों के लिए फ़ेमस है.

Source: thelogicalindian

अब जब बात पुलिस की ही हो रही है, तो यूपी पुलिस के एक अधिकारी हैं राहुल श्रीवास्तव. राहुल वर्तमान में यूपी पुलिस में अडिशनल एसपी (टैक्निकल सर्विसेज) के पद पर तैनात हैं. राहुल गैलेंट्री मेडल प्राप्त कर चुके हैं इसलिए बड़े होनहार अफ़सर माने जाते हैं.

Source: twitter

राहुल श्रीवास्तव सोशल मीडिया पर काफ़ी एक्टिव रहते हैं. हाल ही में उन्होंने अपने पर्सनल ट्विटर हैंडल से एक वीडियो शेयर किया. जो किसी थाने का मालूम होता है.

सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हो रहे इस वीडियो में ये क़ैदी गाना गाता हुआ सुनाई दे रहा है. गाना भी ऐसा कि मानो बिहार की शराब बंदी का सारा असर इसी पर हुआ हो.

गाने के बोल कुछ इस तरह हैं - 'तेरी यादें मिटाने को, पीता हूं गम भुलाने को… लाखों में हज़ारों में, एक तू ना नज़र आई... न कोई ख़त आया, न कोई ख़बर आई... चाहत में बदल देते, इस दिल को दीवाने को...

बंदा गम खाया हुआ मालूम होता है. जनाब के गाने और दिल में दर्द बराबर छलक रहा है.

इस वीडियो को पोस्ट करते हुए राहुल श्रीवास्तव ने लिखा कि, कभी-कभी हमारे कारागार में भी कलाकार मिल जाते हैं! अगर पीने के शौक़ से ज़्यादा गाने के शौक़ पर ध्यान देते, तो शायद बंदीगृह के बजाए किसी सिंगिंग टैलेंट शो में वाइल्ड कार्ड एंट्री मिल जाती!

वैसे राहुल श्रीवास्तव ने बात तो एकदम पते वाली की, लेकिन ट्विटर सेना कहां चुप रहने वाली थी, लग गए मज़े लेने.

कुछ यूजर्स ने हवालात में बंद इस क़ैदी को छोड़ने की गुहार लगाई है.

कुछ ने इसकी गायिकी की तारीफ़ की.

कुछ पूछ बैठे कि आख़िर इसका जुर्म क्या है और क्यों गिरफ़्तार किया है?