वैसे अगर मम्मी-पापा के बाद अगर हर वक़्त कोई हमारा साथ दे सकता है, तो वो गूगल ही है. आज कल हम छोटी से छोटी जानकारी के लिए भी गूगल पर निर्भर हो गए हैं. हर कोई गूगल का इतना आदी हो गया है कि इसके बिना ज़िंदगी थोड़ी मुश्किल सी लगने लगी है. अब हाल ही में एक डॉक्टर ने मरीज के इलाज के दौरान गूगल ट्रांसलेट का इस्तेमाल किया.

Source : Skift

ऐसा पहली बार है जब इस तरह का किस्सा लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है. दरअसल, 58 वर्षीय Gavkharjon Khafizova कुछ दिनों पहले घुटने की सर्ज़री के लिए उज्बेकिस्तान से हैदराबाद आई, लेकिन उन्हें हिंदी या इंग्लिश का भाषा का कोई ज्ञान नहीं था, जिस वजह से वो डॉक्टर को खुल कर अपनी परेशानी नहीं बता सकती थी और न ही डॉक्टर उनकी बात समझ सकते थे.

वहीं इलाज के लिए जब गावखरजोन Udai Omni Hospital For Advanced Orthopaedics And Trauma पहुंची, तो डॉक्टर्स ने उन्हें लीवर फे़लियर, सांस लेने में कठिनाई और लो प्लेटलेट्स काउंट जैसी तीन बड़ी बीमारियों की समस्या बताई. गावखरजोन के ट्रीटमेंट के अलावा डॉक्टर्स के सामने एक बड़ी दिक्कत ये भी थी कि वो उससे बात कैसे करें, क्योंकि उसे हिंदी या अंग्रेजी में कुछ भी समझ नहीं आता था, लेकिन हमारे डॉक्टर्स भी किसी कम नहीं थे, उन्होंने इसके लिए गूगल ट्रांसलेट की मदद ली और करीब 10 दिनों तक गूगल ट्रांसलेट की मदद से वो उसका इलाज करते रहे. इस तरह से गूगल डॉक्टर और मरीज के बीच संवाद का ज़रिया बना.

Thank You! गूगल एक मरीज के इलाज के दौरान डॉक्टर्स की मदद करने के लिए, अगर तुम न होते तो शायद बहुत कुछ ख़राब हो सकता था.

Source : TOI