अमेरिका के टेक्सास में हार्वी तूफ़ान ने भारी तबाही मचाई है, शहर के लगभग 13 मिलियन लोग भयंकर तूफ़ान की चपेट में हैं. आपदा की इस घड़ी में एक शख़्स टेक्सास के लोगों के लिए मसीहा बनकर सामने आया है. ये शख़्स कोई और नहीं, बल्कि भारतीय मूल के हरीश कथरानी हैं.

दरअसल, टेक्सास हॉस्पिटल में एडमिट मरीज़ों की ख़राब हालत देखते हुए, अस्पताल को Impavido मेडिसिन की ज़रूरत थी. शहर में आये भयंकर तूफ़ान के कारण इस मेडिसिन का मिलना काफ़ी मुश्किल हो रहा था. ऐसे में हॉस्पिटल ने एक फ़ॉर्मेसी को फ़ोन मिलाया और दवा के भेजने के लिए अनुरोध किया. कंपनी के सीईओ हरीश को जैसे ही ये बात पता चली, उन्होंने बिना किसी देरी के कंपनी के एक कर्मचारी को Orlando से Houston दवाईयां डिलीवर करने के लिए भेजा, ताकि सही समय पर मरीज़ों का इलाज कर उन्हें बचाया जा सके.

Image Source : clark
हरीश कथरानी, Southside Group of Companies के संस्थापक और सीईओ हैं. कथरानी बताते हैं कि 'Leishmaniasis जैसी भयंकर बीमारी से पीड़ित मरीज़ों के लिए Impavido का प्रयोग किया जाता है, जिसकी कीमत 49,000 डॉलर है. इसीलिए ये दवा आसानी से हर जगह नहीं मिलती.'
ख़बर की जानकारी मिलते ही इंडो-अमेरिकन चैंबर ऑफ़ कॉमर्स ऑफ़ ग्रेटर हयूस्टन के कार्यकारी निदेशक जगदीप अहलूवालिया ने कहा, 'मुझे इस बात पर गर्व है कि चैंबर के सदस्य ने अपने कर्तव्य को ऊपर रखते हुए, ज़रूरत के वक़्त लोगों की मदद की.'
Image Source : indoamerican

Southside एक फ़ॉर्मेसी कंपनी है, इसकी कंपनी की शुरुआत सन् 1992 में की गई थी. ये कपंनी 35 स्टेट्स में दवाईयां डिलीवर करती है. वैसे ये सप्ताह में कुछ नियमित घंटों के लिए ही खुलती है, लेकिन कंपनी में कार्यरत Nurses फ़ोन पर 24 घंटे मदद के लिए उपलब्ध रहती हैं.

भयंकर तूफ़ान में चिल्ड्रेन हॉस्पिटल में दवाईयां भेज कर कथरानी ने न सिर्फ़ अपने कर्तव्य का पालन किया, बल्कि सभी के लिए मिसाल भी कायम की.

Source : TOI