गांव का कोई लड़का जब सेना का जवान बनने का सपना देखता है, तो उसकी सुबह रोज़ 4 बजे होती है. उठते ही वह गांव की पगडंडियों पर दौड़ लगाता है, उम्र यही कोई 16-17 साल की होती है. चेहरे पर मासूमियत होती है, और कंधे पर होती है घर की ज़िम्मेदारी. मध्यम वर्ग का वह लड़का, जो सेना में जाने की तैयारी में दिन-रात एक कर देता है, उसके इस एक सपने से घर में बैठी जवान बहन, बूढ़ी मां और समय के साथ कमज़ोर होते पिता की ढ़ेरों उम्मीदें ही नहीं जुड़ी होती हैं, बल्कि जुड़ा होता है एक सच्चे हिन्दुस्तानी होने का फ़र्ज़.

फ़ौजी बनना कोई मज़ाक नहीं है. फौज़ी इस देश की शान है, मान है, और हमारा अभिमान है. देश सेवा के लिए फौजी हमेशा तत्पर रहते हैं. इन्हें न प्रांत से मतलब है और न ही धर्म से, इन्हें तो मतलब है, बस अपने देश से.

ये फौजी कैसे बनते हैं

करियर, रोजगार और पैसे की चाह में देश के युवाओं के पास कई विकल्प मौजूद रहते हैं, लेकिन कुछ युवा जुनूनी होते हैं, जो देश सेवा के लिए जान देने से भी गुरेज नहीं करते हैं.

Source: Livemint

फौजी बनने का मतलब?

फौजी बनने का मतलब होता है, खानाबदोश की ज़िंदगी जीना. ये शब्द शायद आपको सुनने में थोड़ा अजीब लगे, लेकिन ये बिलकुल सच है. फौजी बनने के बाद परिवार, घर, खाना, सुकून सब भूलना होता है.

Source: Indiandefence

फौजी और देश

दुनिया भर के सभी फौजियों में एक ख़ास बात होती है कि वे देश और अपने सीनियर्स के ऑर्डर के अलावा कुछ सुनते ही नहीं.

Source: Rediff

फौजी के बिना देश?

एक फौजी के बिना देश वैसा ही होता है जैसे बिना हड्डी के शरीर. किसी भी संप्रभु राष्ट्र के लिए मजबूत फौज बहुत ही ज़रूरी है. आइए हम आपको ग़ज़बपोस्ट पर अपने फौजी भाइयों के बारे में बताते हैं.

Source: blogspot

भारतीय सेना के प्रकार

भारत की एकता और अखंडता के लिए भारतीय सेना हमेशा तत्पर रहती है. थल,जल और आकाश से रक्षा करने के लिए देश में तीन सेनाओं को गठित किया गया.

Source: Salute

भारतीय थल सेना

Source: indiandefencereview

भारतीय जल सेना

Source: wpengine

भारतीय वायु सेना

Source: Intoday

इनके अलावा सीमा सुरक्षा, आंतरिक सुरक्षा और बाह्य सुरक्षा को ध्यान में रख कर अन्य सेनाओं का भी गठन किया गया है.

- भारतीय सुरक्षा बल

- असम राइफल्स

- राष्ट्रीय राइफल्स

- राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड

- भारत तिब्बत सीमा बल

कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक हमारा है!

इसमें कोई शक नहीं कि भारतीय सीमाओं की रक्षा के लिए हमारे जांबाज अपनी ज़िंदगी तक कुर्बान कर देते हैं.

Source: Life

भारतीय सेना विश्व की सबसे बड़ी स्वैच्छिक सेना है

हमारे देश में हजारों की संख्या में सैनिक स्वेच्छा से देश की सेवा करते है. संविधान में अनिवार्य सैनिक सेवा की व्यवस्था होने बावजूद भी कभी सरकार को बलपूर्वक इसे लागू करने की ज़रुरत नहीं पड़ी.

Source: qzprod

विश्व का सबसे ऊंचा युद्धक्षेत्र सियाचिन

समुद्र तल से उस ऊंचाई पर जहां जान बचाना मुश्किल होता है, भारतीय सेना वहां भी शत्रुओं से रक्षा के लिए डटी रहती है. वहां पर कई सैनिकों की मौत दुश्मनों की गोली से न होकर मौसम की मार से होती है.

Source: Catch

खाना ख़ुद से बनाते हैं

आप जान कर हैरान हो जाएंगे, लेकिन ये सच है. हमारी सेना के जवान खाना ख़ुद से बनाते हैं. खाना बनाने के लिए अलग से कोई व्यवस्था नहीं की गई है.

Source: bbc

हर शाम शायराना होती है

परिवार से दूर रहना तो किसी को भी अच्छा नहीं लगता है, लेकिन हमारी सेना रहती है. सीमा पर न टीवी की व्यवस्था होती है और न ही ही कोई मनोरंजन का साधन होता है. ऐसे में ये आपस में ही शायरी, कविता पाठ, लोकगीत गा कर हर शाम को गुलज़ार करते हैं.

Source: Indianarmy

ख़त हमेशा लिखते हैं

दूरगामी क्षेत्रों में रहने वाले कई फौजी आज भी अपने परिजनों को प्रतिदिन ख़त लिखते हैं. यही ख़त उनके दोस्त और हमसफ़र होते हैं.

हर फौजी का सपना, गांव में घर हो अपना

भारत के सभी फौजी गांव से जुड़े रहते हैं. उनका सपना होता है कि रिटायरमेंट के बाद वे गांव में ही रहें, जहां शांति से वो खेती कर सके.

Source: bbc

रेडियो आज भी उनका यार है

भले ही हमारे हाथों में मल्टीमीडिया आ गया हो, लेकिन एक बात सच है कि फौजी भाईयों के लिए रेडियो आज भी एक वरदान की तरह है. आकाशवाणी भी उनकी पसंद का ख़ूब ख़्याल रखता है.

Source: Livemint

जान से प्यारी, इनकी दोस्ती

फौजियों में एक ख़ास बात है कि वो अपने साथियों को अपने परिवार के सदस्य मान लेते हैं. ऐसे में भरोसा, प्यार और जुड़ाव ज़्यादा हो जाता है.

Source: ndtv

एक दूसरे पर ख़ूब फब्तियां कसते हैं

फौजी जवान जितना मर्यादित होता है, उतना ही हंसमुख भी होता है. ज़िंदगी को अगर कोई जीता है, तो वो हैं हमारे फौजी भाई. आस-पास के दोस्तों के साथ खूब मजे लेते हैं.

Source: ijobsapp

Co-Author- Smita Singh