हाल ही में एआईएडीएमके जनरल सेक्रटरी शशिकला को आय से अधिक संपत्ति के मामले में चार साल की कैद की सज़ा सुनाई गई थी. गौरतलब है कि शशिकला को बेंगलुरु के परपाना अग्रहारा जेल के महिला बैरक के 10 फुट लंबे और चार फुट चौड़े एक साधारण से सेल में रखा गया है.

Source: indiatimes

गौरतलब है कि उनकी कोठरी में उनके साथ दो और महिलाएं रह रही हैं. लेकिन शशिकला को जेल में सायनाइड मल्लिका नाम की एक ख़तरनाक पड़ोसी मिली है. जी हां, साइनाइड मल्लिका के नाम से कुख़्यात इस महिला का असली नाम के.डी. केमपम्मा है और ये 7 महिलाओं का क़त्ल करने की सज़ा काट रही है.

Source: intoday

सूत्रों के हवाले से, परपाना अग्रहारा जेल के वुमन सेक्शन के जिस सेल में शशिकला को रखा गया है, उसके बराबर वाली सेल में के.डी. केपाम्मा उर्फ़ सायनाइड मल्लिका सजा काट रही है. सायनाइड मल्लिका अब तक 7 महिलाओं को मौत की नींद सुला चुकी है. आपको बता दें कि सायनाइड मल्लिका मुख्यतौर पर मंदिर आने-जाने वाली महिलाओं को अपना शिकार बनाती थी. उनसे दोस्ती करके उन्हें सायनाइड खिला देती थी और फिर उनके पैसे, ज्वैलरी और महंगी चीज़ें लेकर वहां से गायब हो जाती थी. 1999 से लेकर 2007 तक सायनाइड मल्लिका ने 7 महिलाओं को इसी तरह अपना शिकार बनाया और इन अपराधों को उसने बेंगलुरु और इसके आस-पास के इलाकों में ही अंजाम दिया. गौरतलब है कि साल 2008 में इस ख़तरनाक अपराधी को पुलिस ने पकड़ा और तब से जेल में सज़ा काट रही है.

Source: abplive

आपको बता दें कि कर्नाटक के कग्गलीपुरा गांव की रहने वाली मल्लिका पहले लोगों के घरों में काम करती थी और वो जल्द से जल्द खूब सारा पैसा कमाना चाहती थी. इसीलिए उसने घरों में चोरी भी की. चोरी के एक केस में उसे एक साल को जेल हुई थी. जेल से बाहर आकर उसने एक चिट फंड कंपनी शुरू की, लेकिन उसमें भी घाटा हो गया और उस पर काफी कर्ज भी हो गया. इसके बाद उसने महिलाओं को अपना शिकार बनाया और उनका क़त्ल किया.

Source: indiatimes

मल्लिका खुद को तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की फैन भी बताती है. साल 2014 में जब जयललिता बेंगलुरु जेल में कैद थीं, तो उस वक़्त मल्लिका ने उनसे मिलने की इच्छा भी ज़ाहिर की थी.

गौरतलब है कि 42 वर्षीय सायनाइड मल्लिका जेल में शशिकला से दोस्ती बढ़ाने की कोशिश भी कर रह रही है. वो अपना अधिकतर समय शशिकला के आस-पास ही गुज़रती है. वो उनके लिए खाने की लाइन में भी लगती है और खुद उनके लिए खाना लाती है. इस कारण शशिकला की पार्टी और समर्थक इसके बाबत जानबूझकर उनकी जान को खतरे में डालने का मुद्दा उठा रहे हैं.

हालांकि, जेल के सुपरिटेंडेंट कृष्ण कुमार इस बात से इत्तेफ़ाक नहीं रखते. वो कहते हैं कि शशिकला को सायनाइड मल्लिका से किसी तरह का ख़तरा नहीं है. साथ ही वो बताते हैं कि जिस सेल में शशिकला को रखा गया है, उस सेल में शशिकला से पहले हाई प्रोफाइल मर्डरर ऐडवोकेट शुभा शंकरनारायण सायनाइड मल्लिका के साथ कई वर्षों तक सजा काट चुकी हैं.

Source: indiatimes