देश की सेवा में जितना बड़ा हाथ सैनिकों का होता है, उतना ही तकनीकी यंत्रों और पोतों का भी होता है. भारत के तिरंगे की छांव में 30 साल तक देश के लिए समर्पित युद्धपोत INS विराट आज रिटायर हो रहा है. आईएनएस विराट ने 30 साल भारत के अलावा 27 साल ब्रिटेन के रॉयल नेवी की सेवा में भी बिताये हैं. इस पोत का नाम गिनीज़ बुक में सबसे लम्बे सेवाभार के लिए अंकित किया गया है. विराट दो तरह के मिशन के लिए ही फिट था: समुद्री ऑपरेशन के लिए और युद्ध के लिए. जब ये ब्रिटेन नेवी के लिए काम कर रहा था, तब इसका नाम HMS Hermes था और इसे वहां से 1987 में इंडिया लाया गया.

कई युद्ध अभ्यास में भी ये पोत अपना कौशल दिखा चुका है. हालांकि इसकी क्षमता अभी भी कायम है, पर पुराने ढांचे की वजह से किसी हादसे से बचने के लिए इसको रिटायर किया जा रहा है.

आइये इस मौके पर देखते हैं, इस पोत की कुछ यादगार तस्वीरें:

1. Choppers और Jet को एक साथ लैंड करवाने की क्षमता रखता है विराट.

2. 1959 में ब्रिटेन से जुड़ने के बाद इसे 1987 में लाया गया था भारत.

3. इसकी परफॉरमेंस और कार्यकुशलता का परीक्षण को देखते हुए राजीव गांधी.

4. एक साथ 750 Sailors और 26 एयरक्राफ्ट स्टोर करने की क्षमता रखता है विराट.

5. आईएनएस विराट पर एक Sea Harrier लैंड होता हुआ.

6. 2006 में आयोजित Indo-French Naval Exercise के दौरान विराट.

7. डॅा. अब्दुल कलाम की निगरानी में सबको लीड करता हुआ विराट.

8. रक्षा मंत्री को अपनी ताकत और क्षमता दिखाता विराट.

9. सैकड़ों नौ-सैनिकों के साथ सज-धज कर खड़ा विराट.

10. 2005 में विराट एक युद्ध अभ्यास में शरीक होते हुए.

11. योग दिवस के अवसर पर बड़े पैमानों पर लोगों ने इस पर योग किया था.

30 साल के कार्यकाल में विराट ने देश को कई मौकों पर गौरवान्वित किया है. इसकी कार्यकुशलता और क्षमता पर कभी सवाल नहीं उठा. जैसे कुछ दिन पहले विक्रांत कबाड़ी में चला गया था, वैसे ही ये भी चला जायेगा. पर जब-जब पोतों का ज़िक्र होगा, उसमें विराट सबसे पहले याद किया जायेगा.

Source: HT