झीलों और हिमखंडों से घिरी लाहौल-स्पीति की घाटियां अपने जादुई सौंदर्य और प्राकृतिक विविधताओं के लिए जानी जाती हैं, साथ ही इसे हिमालय का दिल भी कहा जाता है, जो भी शख़्स यहां आता है बस इसकी ख़ूबसूरती का दीवाना हो जाता है.

लाहौल-स्पीति की सुंदरता के बारे में तो आप सुनते ही रहते हैं, पर आज हम आपको इस जगह की एक और ख़ास बात बताना चाहते हैं. दरअसल, Neelima Vallangi नामक एक लेखक ने लाहौल-स्पीति की ख़ूबसूरत तस्वीर पोस्ट की.

Image Source : cntraveller

इस तस्वीर में आपको ये लेखक तो नज़र आ रही है, पर क्या आपने लेखक के आस-पास मौजूद इस बेहतरीन Art Installation पर ग़ौर किया. आप में से कई लोग ये सोच सकते हैं कि इसमें क्या ख़ास है या कौन सी नई बात है? अगर आप भी ऐसा कुछ सोच रहे हैं, तो बता दें कि ये Installation कोई आम Installation नहीं है, बल्कि ये इसे बनाने के लिए 30 हज़ार प्लास्टिक बोतलों का इस्तेमाल किया गया है. वही प्लास्टिक की बोतलें, जिन्हें हम और आप यूज़ कर कचरे में फ़ेंक देते हैं.

इस कार्य को ट्रैवलर्स और एक्टिविस्ट ग्रुप्स कर अंजाम दिया है. इनका मानना है कि प्लास्टिक का इस्तेमाल हमारे लिए काफ़ी हानिकारक है और ऐसा करने से हमारी आने वाली पीढ़ी पर भी कोई बुरा असर नहीं पड़ेगा. हमने इस नदी के किनारे को एक डंपिंग ग्राउंड में बदल दिया.

वहीं सोशल मीडिया पर स्पीति द्वारा उठाए गए इस कदम की काफ़ी प्रशंसा हो रही है. कई लोगों ने ट्वीट कर इस Art Installation की जमकर तारीफ़ भी की.

वाकई ये कदम काफ़ी सराहनीय है और शायद हम सभी को इनसे प्रेरणा लेने की ज़रूरत है.

वहीं अगर आपको प्राकृति से प्यार है और शांति पूर्ण वातावरण पंसद है, तो आपके लिए लाहौल-स्पीति से अच्छी जगह और कोई नहीं हो सकती.