दोस्तों हम सबने बचपन में स्टैचू-स्टैचू ज़रूर खेला होगा. जी हां, वही जिसमें कोई भी किसी को भी अचानक ही स्टैचू बोल देता है और उस व्यक्ति को वो जैसे है और जिस पोजीशन में हैं वैसे ही बिना हिले रहना होता है. लेकिन एक ही पोजीशन में थोड़ी देर खड़ा होना बहुत ही मुश्किल होता है वो भी बिना हिले ये तो आपको पता ही होगा. पर क्या आप जानते हैं कि ये स्टैचू-स्टैचू खेल ही नहीं है, बल्कि World Living Statues Festival (WLSF) नाम का एक फ़ेस्टिवल भी होता है, जिसमें आर्टिस्ट लोगों के मनोरंजन के लिए स्टैचू बनते हैं और घंटों एक ही जगह पर एक ही पोज़िशन में खड़े रहते हैं.

World Living Statues Festival पिछले बारह वर्षों में दुनिया के सबसे मुख्य फ़ेस्टिवल्स में शामिल हो चुका है. ये फ़ेस्टिवल पूरी तरह से स्ट्रीट आर्टिस्ट्स पर केंद्रित है, जो जीवित पुतलों और मूर्तियों के रूप में खड़े होकर लोगों का मनोरंजन करते हैं. ये एक अद्वितीय अर्बन आर्ट फ़ॉर्म है, जो सभी उम्र के दर्शकों को आश्चर्यचकित और रोमांचित कर रही है. कुछ दिनों पहले रोमानिया के बुखारेस्ट में एक हफ्ते का World Living Statues Festival आयोजित हुआ, जिसमें दुनिया के 8 देशों के लगभग 400 स्ट्रीट आर्टिस्ट्स ने हिस्सा लिया, जो दुनियाभर के फ़ेमस स्टैचू का मेकअप करके Living Statue के रूप में काम करते हैं. इस बार इसमें 3 लाख से भी ज़्यादा लोग शामिल हुए थे. ये फ़ेस्टिवल दिनों-दिन यूरोप में अपने आप में एक अनोखा फ़ेस्टिवल बनता जा रहा है.

कलात्मक, मनोरंजक और दिल को छू लेने वाला फ़ेस्टिवल

WLSF की अपील इतनी मज़बूत थी कि शुरुआत से ही इसमें युवा और बूढ़े दोनों ने ही बढ़चढ़ कर रूचि दिखाई. इस त्यौहार के हर एडिशन में 2 लाख से ज़्यादा दर्शक शामिल होते हैं. साथ ही 200 से आर्टिस्ट्स इससे जुड़ते हैं, जो अपनी कला से लोगों का मनोरंजन करते हैं. कला के रूप में ही इस फ़ेस्टिवल का असर बहुत बड़ा है. ये लोगों के दिल को छूता है. इसका लक्ष्य इस आर्टफ़ॉर्म के बारे में लोगों की उस धारणा को ख़त्म करना है, जिसके तहत लोग मानते हैं कि ये आर्टिस्ट इस तरह से मूर्ति बनकर भीख मांगने का व्यवसाय करते हैं.

आइये अब आपको दिखाते हैं इस फ़ेस्टिवल में हिस्सा लेने वाले कलाकारों की कुछ बेहतरीन फ़ोटोज़:

1. Rat Poison Vendor के अवतार में एक आर्टिस्ट

2. बेहद खूबसूरत!

3. लोगों से बात करते हुए एक कलाकार

4. सोन परी से कम नहीं है ये पुतला

5. बोलने के लिए कोई शब्द नहीं है

6. अब इसके लिए क्या कहा जाए...

7. आक्रोश और डर का अनूठा संगम

8. दुनिया से बेख़बर प्यार में गुम हैं ये दोनों

9. असल दुनिया आज फ़ैशन और दिखावे के पीछे कहीं छुप गई है, यही बोल रहा है ये पुतला

10. बच्चे मन के सच्चे होते हैं.

11. बहुत कुछ कहा रहा है ये जीवित पुतला

12. आसमान से आई एक परी

13. ऐसा लग रहा है मानो बस बोलते ही चल पड़ेंगे ये

14. ज़िन्दगी के हर रंग को समेटे हुए एक कलाकार

15. Make-up करता एक आर्टिस्ट

तो, हैं न मज़ेदार ये फ़ेस्टिवल और इसमें भाग लेने वाले कलाकार.

Source: theguardian