भारत एक ऐसा देश, जहां हुनर और प्रतिभा की भरमार है. आज के युवा हर क्षेत्र में देश का नाम रौशन कर रहे हैं. आये दिन इस तरह की ख़बरें हम पढ़ते है और गर्व से हमारा सीना चौड़ा हो जाता है. इस बात को एक बार फिर से सच कर दिखाया है, जयपुर के मोनार्क शर्मा ने, जिनको यूएस आर्मी में बतौर वैज्ञानिक नौकरी मिली है. US Army की एएच-64ई कॉम्बैट फ़ाइटर हेलीकॉप्टर यूनिट के लिए मोनार्क को साइंटिस्ट के रूप में चुना गया है. इस यूनिट का हेडक्वाटर Fort Hood, Texas में है.

मोनार्क के लिए ये बहुत बड़ी और ख़ुशी की बात है, लेकिन सबसे बड़ी बात ये है कि मोनार्क को ये जॉब 1.20 करोड़ रुपये सालाना सैलरी पर मिली है. यहां पर मोनार्क फ़ाइटर प्लेन की डिज़ाइनिंग, निरीक्षण, निर्माण और रख-रखाव के काम में अहम भूमिका निभाएंगे. गौरतलब है कि ये फ़ाइटर प्लेन इसी साल US Army में शामिल हुआ है.

साल 2013 में मोनार्क ने नासा में बतौर जूनियर रिसर्च साइंटिस्ट मास कम्यूनिकेशन विंग ज्वाइन किया था. उसके बाद पिछले साल मई में उन्होंने US Army ज्वाइन की. उनकी मेहनत और परफॉर्मेंस को देखते हुए उन्हें NASA की तरफ से डिज़ाइनिंग और रिसर्च के लिए दो अवार्ड मिल चुके हैं. इतना ही नहीं 2016 में ही मोनार्क शर्मा को आर्मी सर्विस मेडल और सेफ्टी एक्सिलेंस अवॉर्ड भी मिला था.

मोनार्क ने कहा, 'मुझे भारतीय सेना में काम करने का मौका नहीं मिला, लेकिन यूएस आर्मी में काम करते हुए अपने देश के लिए गर्व लाउंगा. मैं अपने भारतीय छात्रों को पढ़ाता हूं ताकि वह अपने जीवन में सफलता हासिल कर सकें.' इसके साथ ही उन्होंने कहा, 'नासा ने मुझे नौकरी और ग्रीन कार्ड दिया है.'

फ़िलहाल, वो देश में घूम-घूम कर स्टूडेंट्स को लेक्चर देने का काम कर रहे हैं. उनको यूएस आर्मी की ओर से उन्हें अमेरिका की नागरिकता भी मिल चुकी है.

Feature Image Source: indianexpress

Source: timesofindia