'जापान'

एक ऐसा देश, जो अपने सख़्त नियमों और क़ानून के लिये जाना जाता है. इस देश में बहुत सी ऐसी ख़ासियतें हैं, जिनसे बहुत कुछ सीखा जा सकता है. वहीं अब जापान से आई इस ख़बर ने दिल ख़ुश कर दिया. रिपोर्ट के अनुसार, जापानी सरकार बेघर लोगों को रहने के लिये फ़्री घर दे रही है. हांलाकि, ये स्कीम कुछ ही कस्बों में लागू की गई है.

नि:शुल्क और बेहद सस्ते दामों में दिये जाने वाले इन घरों को दो श्रेढियों में विभाजित किया गया है. पहला Freeakiya, AKA Abandoned Houses और दूसरा गर्वमेंट संचालित स्कीम के तहत. दोनों ही योजनाएं इन सस्ते और फ़्री घरों के लिए हैं, लेकिन दोनों के ही इतिहास और उद्देश्य अलग-अलग हैं.

Akiya यानि 'खाली घर'

ये घर जापान के लिये बड़ी समस्या हैं. 2013 में सरकार द्वारा ज़ारी की रिपोर्ट में दावा किया गया कि पूरे जापान भर में लगभग 8 मिलियन संपत्ति ऐसी हैं, जो बेकार और जंजर पड़ी हुई हैं. इसके साथ ही इनमें से कई घर ऐसे हैं, जिनके मकान मालिक न ही घर किराये पर देना चाहते हैं और न ही उसे बेचने के मूड में हैं. वहीं कई संपत्ति ऐसी भी हैं, जिनके ओनर मर चुके हैं और उस घर पर अधिकार ज़माने वाला कोई नहीं है. इसके अलावा ये भी कहा जाता है कि इस देश के लोग काफ़ी अंधविश्वासी भी होते हैं. इसीलिये वो ऐसे घर नहीं खरीदना चाहते, जिनमें किसी ने आत्महत्या की हो या किसी की आकाल मौत हुई हो.

Source : Golbis

यही नहीं, इन भुतहा घरों को लेकर Oshimaland नामक एक वेबसाइट भी है, जिसमें इस तरह के घरों का पता लगाया जा सकता है. सरकार अब ऐसे ही घरों का पुनर्निर्माण कर घर के मालिकों को सब्सिडी भी देगी. ताकि इनका इस्तेमाल किसी बड़े समुदाय के लिये किया जा सके.

Okutama फ़्री आवास योजना

Source : Theculturetrip

अगर आप नये और सस्ते घर की तालाश कर रहे हैं, तो Tokyo Metropolis के Okutama में अपने लिये जगह बना सकते हैं. Rethink Tokyo के मुताबिक, घर के मालिकों को हर महीने करीब 50,000 येन देने होंगे और लगभग 22 साल बाद ये घर आपका हो जायेगा. हांलाकि, इस स्कीम की कुछ शर्तें भी हैं, जिसके तहत मकान मालिकों की उम्र 45 वर्ष से कम होनी चाहिये. वहीं अगर बच्चे हैं, तो वो हाई स्कूल से ऊपर की क्लास वाले नहीं होने चाहिये.

वैसे अगर आप इंडिया में घर नहीं ख़रीद पा रहे हैं, तो जापान जा सकते हैं.

Source : Lucisphilippines

Feature Image Source : Hzcdn