भारतीय लोग अपनी सभ्यता और शान-ओ-शौकत के लिए जाने जाते हैं. दुनियाभर में देश के राजा-महाराजा अपने शाही अंदाज़ के लिए फ़ेमस थे. इसी क्रम में उनकी ज्वैलरी भी आती है. यही नहीं, वो इन 9 अविश्वनीय अभूषणों के लिए भी जाने जाते हैं, जिसे देखने के बाद मन में लालच आना वाजिब है.

1. महाराजा दुलीप सिंह, डायमंड कलगी

सिख साम्राज्य के आखिरी राजा दुलीप सिंह अपनी पगड़ी में डायमंड ब्रोच पहनते थे, जिसके तीन पंख पूरी तरह से डायमंड के बने हुए थे. इसके साथ ही बीच में एक पन्ना भी लगा हुआ था.

2. महाराजा भूपिंदर सिंह, पटियाला हार

2,930 हीरों से मिलकर बना ये हार दुनिया के 7वें सबसे बड़े 234 कैरट Yellow 'De Beers' हीरे से बनाया गया था. 1928 में Cartier Paris ने ख़ास तौर से ये हार महाराजा के लिए तैयार किया था.

3. महारानी श्री बख्तावर कौर सहिबा, पटियाला रूबी चोकर

महाराजा भूपिंदर सिंह ने ये हार अपनी पत्नी महारानी श्री बख्तावर कौर सहिबा को तोहफ़े में दिया था. इसे भी 1931 में Cartier ने ही बनाया था. ये चोकर Rubies, Pearls और डायमंड से तैयार किया था.

4. कश्मीरी प्रिसेंस, Diadem

भारतीय अाभूषणों का शानदार हिस्सा 9वीं शताब्दी में कश्मीरी प्रिसेंस के लिए बनाया गया था. ये अर्ध ताज उनकी शान-ओ-शौकत की पहचान था.

5. बड़ौदा की रानी, महारानी सीता देवी, दक्षिणी हीरा

तीन लेयर वाले इस हार में 128 कैरेट का दक्षिणी हीरा लगा हुआ था. इसके अलावा इसे बनाने में 78.5 कैरेट English Dresden का भी इस्तेमाल किया गया था. बड़ौदा के Gaekwar मुलहर राव ने इसे £80,000 पाउंड में खरीदा था. बाद में मुंबई के रुस्तमजी जमशेतजी ने स्टार ऑफ़ द साउथ को खरीद कर 2002 में Cartier को बेच दिया था.

6. महाराजा खांदे राव, मोतियों का हार

इस ख़ूबसूरत हार को बड़ौदा के महाराजा खांदे राव ने 1980 में बनवाया था. प्राकृतिक मोतियों से बने इस हार की चमक 150 साल बाद भी फीकी नहीं पड़ी थी.

7. नवनगर के महाराजा, शाही पन्ना हार

277 कैरेट वज़न, 17 आयातकार वाला ये शाही हार नवनगर के महाराजा की पहचान था. ऐसा कहा जाता है कि एक बार इसे तुर्की के सुल्तान के संग्रह में भी शामिल किया गया था.

8. सोने की बालियां, 1वीं शताब्दी

आंध्र प्रदेश में पाई गई कानों की ये विशाल बालियां Satavahanas वंश की थी.

9. महाराजा भूपिंदर सिंह, डायमंड डेकड ब्रोच

पटियाला के राजा भूपिंदर सिंह अपनी पगड़ी में आश्चर्यजनक ब्रोच लगाते थे. कई चमकदार रत्नों से सजे हुए इस आभूषण को $1,70,000 डॉलर में नीलाम किया गया था.

क्यों आ गया न लालच?

Source : SW