90 के दशक के बाद से ही हमारे देश में सैटेलाइट चैनलों का वर्चस्व बढ़ने लगा है. चाहे एंटरटेनमेंट हो या मीडिया, दोनों ही तरह के जॉनर्स की हमारे देश में अच्छी-खासी जगह है. दोनों ही समाज का हिस्सा बन चुके हैं और एक-दूसरे के कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं. मीडिया तो फ़िल्म इंडस्ट्री की खबरें खूब दिखाता है. चाहे कोई कॉन्ट्रोवर्सी हो या फिर किसी फ़िल्म का प्रमोशन, ज़्यादातर चीज़ें लोगों को मीडिया के ज़रिये ही पता चलती है. लेकिन, एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री इस काम में थोड़ा पिछड़ गई है.

दरअसल, पत्रकार हमारी फ़िल्मों का हिस्सा तो रहे हैं, लेकिन ज़्यादातर फ़िल्मों में स्टीरियोटाइप होकर रह गए या फिर कैरेक्टर पर बहुत ज़्यादा मेहनत नहीं की गई. फ़िल्म पीपली लाईव तो आपको याद ही होगी? इस फ़िल्म में मीडिया का खूब मज़ाक उड़ाया गया है. हर इंडस्ट्री की तरह इस इंडस्ट्री में भी कई कमियां ज़रूर हैं, लेकिन इस प्रोफ़ेशन की अच्छाइयों और प्रभाव को नकारा नहीं जा सकता. कितने ही रिपोर्टर कठिन परिस्थितियों से जूझने के बाद खबरें लाते हैं. हमारे देश में कई प्रभावशाली और शानदार पत्रकार होने के बावजूद किसी पर भी अभी तक बॉलीवुड में बायोपिक नहीं बनी है. चलिए, कुछ ऐसी फ़िल्मों पर नज़र डालते हैं, जिसमें पत्रकार का किरदार केवल खानापूर्ति के लिए नहीं, बल्कि फ़िल्म का अहम किरदार था.

1. लक्ष्य

फ़रहान अख्तर की वॉर ड्रामा 'लक्ष्य' 1999 के कारगिल युद्ध और रितिक रोशन की सेल्फ़ डिस्कवरी पर आधारित है. फ़िल्म में प्रीति ज़िंटा एक रिपोर्टर के किरदार में हैं जिसका नाम रोमिला दत्ता है. कारगिल युद्ध के समय क्षेत्र में रिपोर्टिंग करने पहुंची बरखा दत्त से ये किरदार काफ़ी मिलता-जुलता है. कारगिल युद्ध की बेहतरीन कवरेज के बाद से ही बरखा दत्त काफ़ी लोकप्रिय हुई थीं.

Source :Missmalini

2. फिर भी दिल है हिन्दुस्तानी

शाहरुख खान और जूही चावला स्टारर ये फ़िल्म 2004 में रिलीज़ हुई थी. शाहरुख और जूही दोनों ही फ़िल्म में पत्रकार बने थे. नेताओं के शिकंजे से बच निकल ये लोग, सच को जनता के सामने लाने के लिए संघर्ष करते हैं. फ़िल्म इसी संघर्ष की कहानी है.

Source : Imdb

3. पेज 3

पेज 3 में कोंकणा सेन शर्मा एक युवा पत्रकार मेधावी शर्मा के रोल में हैं. मेधावी जर्नलिस्ट बनने के लिए मुंबई आती है और एक अख़बार में उसे नौकरी भी मिल जाती है. लेकिन, यहां उसे पेज 3 पर काम करने के लिए दिया जाता है. लिहाजा उसे बड़े-बड़े फ़िल्मस्टार्स की पार्टियां कवर करनी होती है. इसी के दौरान उसे इस चमचमाती दुनिया के पीछे का अंधेरा देखने को मिलता है.

Source : Youtube

4. सत्याग्रह

सत्याग्रह 2013 में रिलीज़ हुई थी. ये फ़िल्म अन्ना हज़ारे के आंदोलन से प्रेरित थी. इसमें करीना कपूर जर्नलिस्ट की भूमिका में हैं जिसका नाम यास्मिन है. यास्मिन हालात को देखकर भावुक भी होती है, लेकिन एक रिपोर्टर के तौर पर अपना काम भी बखूबी करती है.

Source : Indiannerve

5. नो वन किल्ड जेसिका

नो वन किल्ड जेसिका 1999 में हुए जेसिका लाल हत्याकांड और उसके लिए इंसाफ़ की लड़ाई पर बनी फ़िल्म है. फ़िल्म में केस के लिए किए गए मीडिया ट्रायल को दिखाया गया है. इस फ़िल्म में रानी मुखर्जी एक जर्नलिस्ट, मीरा का किरदार निभा रही हैं. मीरा की इस केस को लेकर दिलचस्पी और संवेदनशीलता की वजह से जेसिका का परिवार ये केस जीत जाता है.

Source : Firstpost

6. मुम्बई मेरी जान

इस फ़िल्म की कहानी मुंबई ट्रेन ब्लास्ट की घटना से प्रभावित है. फ़िल्म में सोहा अली खान, रुपाली नाम की रिपोर्टर का किरदार निभाती हैं. ट्रेन ब्लास्ट के बाद रुपाली घटना को कवर करने घटनास्थल पर जाती है, जहां उसे पता चलता है कि ब्लास्ट में उसका मंगेतर भी मारा गया है. इसके बाद उसके चैनल वाले अपनी रेटिंग्स के लिए रुपाली की ही कहानी को भुनाने की कोशिश करते हैं.

Source : Tvguide

7. नूर

नूर इसी साल अप्रैल में आई थी और बॉक्स ऑफ़िस पर ज़्यादा नहीं टिक पाई. फ़िल्म में सोनाक्षी सिन्हा एक जर्नलिस्ट का किरदार निभा रही हैं. इस फ़िल्म में जालसाज़ी को सामने लाने के लिए एक रिपोर्टर की मुश्किलों को दिखाया गया है.

Source : Koimoi

8. बजरंगी भाईजान

वैसे तो फ़िल्म का चेहरा बजरंगी यानि सलमान खान और मुन्नी यानी हर्षाली मल्होत्रा थे, लेकिन फ़िल्म में चांद नवाब के किरदार की भी खूब तारीफ़ हुई थी. चांद नवाब एक पाकिस्तानी रिपोर्टर है, जो खोई हुई मुन्नी को उसके घर तक पहुंचाने और बजरंगी को सही सलामत भारत वापस भेजने में उसकी मदद करना चाहता है. स्टोरी में दम न होने की वजह से कोई चैनल उसकी बात रखने को राजी नहीं होता है. अंत में वो खुद ही एक वीडियो बनाकर इंटरनेट पर अपलोड कर देता है. चांद नवाब के रोल में नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने दर्शकों की खूब वाह-वाही लूटी थी.

Source : Youtube

9. पीके

ये फ़िल्म धर्म के नाम पर किए जाने वाले गोरखधंधे को दिखाती है. फ़िल्म में आमिर खान के अलावा अनुष्का शर्मा मुख्य किरदार में हैं. अनुष्का के किरदार का नाम जगत जननी है, जिसे सब जग्गू बुलाते हैं. जग्गू इस फ़िल्म में जर्नलिस्ट है और वह इस फ़िल्म में अजीबोगरीब पीके के लाइफ़स्टायल को दुनिया के सामने लेकर आती है.

Source : Financialexpress