पिछले साल 23 दिसंबर को दूसरे चारा घोटाले मामले में दोषी पाए जाने पर लालू यादव को रांची के बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल में डाल दिया गया. जिस दिन कोर्ट में लालू यादव को सज़ा सुनाई जाने वाली थी. उस दिन लालू यादव और जज के बीच एक दिलचस्प वार्तालाप हुआ. ये रहा वार्तालाप का एक अंश...

लालू यादव- 'जेल में बहुत ठंड है.'

जज: 'अगर आपको जेल में ठंड लग रही है, तो गरमी लाने के लिए तबला और हरमोनियम बजाइए.'

*जेल में रहने के दौरान राजद प्रमुख लालू यादव को पता चला कि एक ट्रांसजेंडर साथी कैदियों को परेशान करता है, जिसके बारे में लालू यादव ने जज को बताया.*

लालू यादव: सर, जेल में एक ट्रांसजेंडर है, जो साथी कैदियों को शादी उससे शादी करने के लिए कहता रहता है.

जज- 'अब आप वहीं रहने वाले हैं, अब वो किसी को परेशान नहीं करेगा.'

*लालू यादव और जज के बीच सज़ा के समय पर भी बातचीत हुई*

लालू यादव: 'कृपा कर आप ठंडे दिमाग से फ़ैसला लीजिएगा.'

जज- 'हां, मुझे आपके शुभ-चिंतकों की ओर से फ़ोन भी आए हैं, आप निश्चिंत रहिए, मैं क़ानून का पालन ही करूंगा.'

*इस केस में लालू यादव के साथ 15 अन्य दोषियों को सज़ा सुनाई गई है, सज़ा सुनाने से पहले न्यायाधिश ने एक मज़ाकिया टिप्पणी की*

जज- 'इन दोषियों के लिए खुली जेल ठीक रहेगी, क्योंकि इन्हें गाय पालने का अनुभव है.'