केरल के कन्नूर में एक हाई स्कूल परीक्षा की टॉपर ने आत्महत्या कर ली. कारण? मीडिया. जी वही लोकतंत्र का चौथा स्तंभ. मीडिया ने टॉपर लड़की की गरीबी को ज़ोर-शोर से दिखाया और उसकी कड़ी मेहनत को भूल गए.

शिवपुरम हायर सेकेंडरी स्कूल, कन्नूर की छात्रा रफ़सीना ने 1180 अंक प्राप्त किए. सोमवार को परिणाम घोषित किए थे. 2 दिन बाद रफ़सीना के मल्लूर स्थित घर से उसकी लाश बरामद की गई.

Source: Scoop Whoop

पुलिस के अनुसार लाश के पास से एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया, जिसमें रफ़सीना ने मीडिया की तरफ़ इशारा करते हुए लिखा कि, उसकी गरीबी को बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया गया, जिसे उसने अपने सहपाठियों से छिपाया था. मीडिया द्वारा अपनी गरीबी को दिखाए जाने के कारण रफ़सीना अवसाद से ग्रसित थी.

Source: phdmedia

रफ़सीना अपनी मां, रहमत और दो भाई-बहनों के साथ एक कमरे के मकान में रहती थी. उसकी मां एक मज़दूर है.

रफ़सीना द्वारा 96% अंक प्राप्त करने के बाद बहुत से नेताओं और संगठनों ने उसकी आगे की पढ़ाई के लिए स्कॉलरशिप देने की घोषणा की थी.

Source: medscape

ख़ुशियों से भरे घर में ग़म के अंधेरा फैल गया. पेरावूर पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है. कुछ दिनों बाद रफ़सीना की फ़ाइल भी बंद हो जाएगी, रह जाएंगे कई अनसुलझे सवाल. लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कही जाने वाली पत्रकारिता, इतनी गिर जाएगी, किसने सोचा था? हवन से वातावरण शुद्ध होता है, पैसों और TRP की होड़ का क्या किया जाएगा?

Source: Scoop Whoop