ज़िंदगी में पहली बार डंबल उठाने वाले भी डंबल रखते ही गूगल पर डाइट प्लान सर्च करते हैं. ढूंढने पर तमाम तरह के अतरंगी डाइट प्लान मिलेंगे. सबके अपने फ़ायदे हैं, अपना काम है.

अगर आप वज़न कम करने के लिए डाइट प्लान तलाश रहे होंगे, तो आपकी नज़र Keto Diet पर पड़ेगी. Gym और Fitness की दुनिया में Keto Diet की धूम है.

Source: everydayhealth

क्या है Keto Diet?

पूरा नाम Ketogenic Diet. इसमें लगभग 70 % फ़ैट, 25 % प्रोटीन और 5 % कार्बोहाइड्रेट(कार्ब) की मात्रा होती है. इसे मुख्य तौर पर Epilepsy के इलाज के लिए तैयार किया गया था लेकिन देखा गया कि ये वज़न कम करने में भी कारगर है.

Source: nbcnews

मानव शरीर की उर्जा का मुख्य स्रोत कार्बोहायड्रेट होता है. कार्बोहायड्रेट ग्लूकोज़ में परिवर्तित होता है और ग्लूकोज़ शरीर के लिए ईंधन का काम करता है. Keto डाइट में कार्ब की मात्रा बेहद कम कर दी जाती है और नया ईंधन तैयार किया जाता है.

कैसे काम करती है Keto Diet?

Source: fitnesstrainingcenter

जब हमारे शरीर के पास पर्याप्त मात्रा में कार्ब नहीं होता, तब वो नए ईंधन की तलाश करता है और ये काम लीवर को सौंपा जाता है. लीवर शरीर में पहले से मौजूद वसा (Fat) को Fatty Acid और Ketone Bodies में तबदील करता है. अब आपका शरीर Ketosis अवस्था में जा चुका है और आप Keto Diet का पालन कर रहे हैं. चूंकी अब उर्जा का स्रोत ग्लूकोज़ न होकर वसा बन चुका है, तो इसका मतलब आपका वज़न कम होने लगेगा.

क्या नहीं खाते हैं Keto Diet में?

उन सभी खाद्य सामग्रियों को दूर से ही टाटा कह दीजिए जिसमें कार्बोहाइड्रेड पाया जाता है. जैसे, दूध, चावल, रोटी, अनाज, फल या आलू. ये बताने की ज़रूरत तो है नहीं कि पास्ता, केक, पिज़्ज़ा, कैंडी आदी खाने की पहले से मनाही है.

Keto Diet के दौरान क्या खा सकते हैं?

आपको बहुत ज़्यादा फ़ैट और थोड़ा बहुत प्रोटीन ग्रहण करना है. इसके लिए पनीर, अंडा (सफ़ेद हिस्सा), मांस-मछली, ड्राइ फ्रूट, हरी सब्ज़ियां, Peanut Butter, खाने में जैतून का तेल या नारियल के तेल का इस्तेमाल करें.

Source: medicalnewstoday

खाने में अनाज न लेने की वजह से शरीर में मिनरल, फ़ाइबर और विटामिन की कमी होती है, इसलिए डॉक्टर के परामर्श से मल्टी-विटामिन की दवाईंया भी लेनी पड़ती हैं.

Keto Diet के साइड इफ़ेक्ट

ये एक ख़ास किस्म की जीवनशैली है इसलिए बदलाव के दौरान भी समस्याएं आती हैं. जैसे बहुत भूख लगना, थकावट महसूस करना आदी. Keto Diet को ज़्यादा से ज़्यादा तीन महीने तक ही करने की सलाह दी जाती है. इससे आगे बढ़ने पर किडनी स्टोन की समस्या हो सकती है. Keto Diet के दौरान ख़ूब सारा पानी पीना अत्यधिक ज़रूरी है.

Fun Fact- Keto Diet शुरु करने वाले 95 प्रतिशत लोग इसका पालन नहीं कर पाते! (Kidding)