दुनिया में कई तरह के लोग होते हैं, उनमें से एक फ़ुटबॉल लवर भी आते हैं. अब इसमें भी एक कैटगिरी होती है, वो असल में बात ये है कि एक बुज़ुर्ग दंपत्ति ऐसा भी है, जो लगातार 9 बार से फ़ीफ़ा वर्ल्ड कप का गवाह बन रहा और 10वां देखने की तैयारी में है. क्या ये जानने के बाद भी आप अपने आपको फ़ुटबॉल लवर कहेंगे?

मिलिए कोलकाता के रहने वाले पन्नालाल (85) और चैटाली चटर्जी (76) से, जो कुछ दिनों के लिए रुस की यात्रा पर निकलने वाले हैं. इतने सालों तक स्टैंड से फ़ीफ़ा का आनंद लेना इनके लिए इतना आसान नहीं था. लाइव फ़ुटबॉल मैच का आनंद उठाने के लिए इन्होंने अपने निजी ख़र्चों से समझौता किया, ताकि उन पैसों से वो फ़ीफ़ा की टिकट ख़रीद सकें.

पहली बार इस जोड़े ने 1982 में Spain World Cup को लाइव देखा और बन गया ये इनकी ज़िंदगी का हिस्सा. इन्हें ब्लैक एंड वाइट टीवी पर मैच देखना अच्छा लगता था, लेकिन ये उसे लाइव देखने की चाहत रखते थे. इन्होंने किया भी वही जो इनके दिल ने कहा. FIFA.com को दिए गए इंटरव्यू में इस फ़ुटबॉल प्रेमी ने बताया कि '1986 में हुए वर्ल्ड कप के दौरान Diego Maradona की बेहतरीन परफ़ॉर्मेंस देखने के बाद ऐसा लगा मानो कि मेरी आंखों के सामने भगवान का हाथ हो.' अपनी इस यात्रा को याद करते हुए कपल ने इस दौरान सामने आई मुसीबतों का भी ज़िक्र किया.

रिपोर्ट्स के अनुसार, इस बुज़ुर्ग दंपति के पास तीन मैच से अधिक टिकट ख़रीदने के लिए पर्याप्त पैसे नहीं है, जिसके लिए उन्होंने फ़ीफ़ा अधिकारियों से अनुरोध भी किया है. हांलाकि, उनकी तरफ़ से अभी तक कोई जवाब सामने नहीं आया है.

पन्नालाल को टिकट मिलने की पूरी उम्मीद है. इसके अलावा उन्होंने ये भी कहा कि शायद ये उनकी आखिरी यात्रा हो सकती है, क्योंकि 2022 में Qatar World Cup तक वो 90 साल के हो जाएंगे, जिसके बाद यात्रा करना संभव नहीं होगा.

किसी इंसान में फ़ुटबॉल का ऐसा ज़ुनून पहले कभी नहीं देखा. हम तो यही आशा करेंगे कि पन्नालाल जी आपका फ़ुटबॉल प्रेम यूं ही बरकरार रहे और हमेशा यूं ही फ़ीफ़ा का आनंद लेते रहें.

Source : SW