फ़्लाइट में लैपटॉप लेकर सफ़र करने वालों के लिए एक बुरी ख़बर है. अंतरराष्ट्रीय नागरिक विमानन संगठन (ICAO), लैपटॉप जैसे पर्सनल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस (PED) को चेक इन लगेज के साथ ले जाने पर प्रतिबंध लगा सकती है.

दरअसल, पिछले हफ़्ते दिल्ली-इंदौर की एक फ़्लाइट में एक यात्री के मोबाइल फ़ोन में आग लग गई थी. इस तरह की स्थिति दोबारा उत्पन्न न हो, इसके लिए सरकार हवाई जहाज़ में लैपटॉप को साथ ले जाने पर रोक लगा सकती है. वहीं भारत में पावर बैंक, पोर्टेबल मोबाइल चार्जर और ई-सिगरेट पहले से ही बैन हैं. मामले पर बात करते हुए एक वरिष्ठ डीजीसीए अधिकारी ने बताया, अगर दुनिया की कोई बड़ी एविएशन एजेंसी इसे लागू करती है, तो डीजीसीए भी इसको तुरंत लागू कर देगा.'

वहीं मामले में अमेरिकी फेडरल एविएशन एडमिनिस्ट्रेशन ने ICAO को अपनी टेस्ट रिपोर्ट सौंपी दी है, जिसमें बताया गया है कि चेक इन बैग में आग लगने की घटना से विमान दुर्घटना का शिकार हो सकता है.

FAA फ़ायर सेफ़्टी ब्रांच ने पूरी तरह से चार्ज 10 लैपटॉप को एक सूटकेस में रखकर रिसर्च किया और निष्कर्ष के आधार पर पाया गया कि ऐसी इलेक्ट्रानिक डिवाइसों में विस्फ़ोट होने की संभावना को खारिज़ नहीं किया जा सकता. साथ ही इस तरह के हादसों में बड़ा नुकसान होने का ख़तरा बना रहता है.