लता मंगेशकर, स्वर कोकिला जिसके बिना भारतीय संगीत की कल्पना भी मुश्किल है. लता ने अपने करियर के दौरान 25,000 से भी ज़्यादा गाने रिकॉर्ड किये हैं. इसके लिए उनका नाम 'गिनीज़ बुक ऑफं वर्ल्ड रिकॉर्ड्स' में भी दर्ज हुआ था. 'ऐ मेरे वतन के लोगों','लग जा गले', 'आपकी नज़रों ने समझा' जैसे ही सैंकड़ों हिट गाने आज भी लोगों की ज़ुबान पर हैं. देश के सर्वोच्च सम्मान भारत रत्न से नवाज़ी जा चुकीं लता भारतीय संगीत की दुनिया में एक युग के तौर पर स्थापित हैं.

लता मंगेशकर को प्ले बैक सिंगर के रूप में तो लोग पसंद करते ही हैं लेकिन, क्या आपको पता है कि लता ने कुछ फ़िल्मों में एक्टिंग भी की है साथ ही वे फ़िल्में भी प्रोड्यूस कर चुकी हैं.

Source : Youtube

जी हां, अपने करियर के शुरूआती दिनों में लता मंगेशकर ने कुछ फ़िल्मों में छोटे-छोटे रोल्स किए थे. उन्होंने 1942 में एक मराठी फ़िल्म 'पहिली मंगलागौर' में एक किरदार निभाया था. ये एक सोशल कॉमेडी फ़िल्म थी, जिसकी कहानी Arranged Marriages के इर्द-गिर्द थी. 1945 में आई हिन्दी फ़िल्म 'बड़ी मां' में लता ने अपनी बहन आशा के साथ एक्टिंग की थी. 1942 से 1948 के बीच लता ने करीब 8 हिन्दी और मराठी फ़िल्मों में एक्टिंग की थी.

Source : Huffingtonpost

लता मंगेशकर ने इसके अलावा फ़िल्म प्रोडक्शन में भी हाथ आज़माया था. इस सिलसिले की शुरूआत 1953 में उन्होंने मराठी फ़िल्म 'वादल' से की थी. इसी साल उन्होंने सी. रामचंद्र के साथ 'झांझर' बनाई थी. 1955 में 'कंचन 'और 1990 में 'लेकिन' फ़िल्म का प्रोडक्शन किया था. इसके अलावा उन्होंने कई मराठी फ़िल्मों में बतौर म्यूज़िक डायरेक्टर भी काम किया था.

लता ने भले ही सिनेमा जगत के इन अलग-अलग क्षेत्रों में कदम रखा हो लेकिन, ये सभी लता को वो शोहरत नहीं दिला पाए जो उन्हें प्लेबैक सिंगिंग ने दिलाई. भारतीय संगीत में अपने अद्भुत योगदान के लिए उन्हें 1989 में 'दादा साहब फाल्के' अवॉर्ड से भी नवाज़ा गया था. सचमुच, लता के गानों के बिना बॉलीवुड के सदाबहार नगमों की कल्पना करना भी मुश्किल है.

Feature Image Source : Jagran