6 महीने की चुभने-जलने, बदबूदार पसीने से शरीर को त्रस्त करने वाली गर्मी में अगर किसी को कुछ अच्छा नज़र आता है, तो उसने अपने दिमाग़ का तत्कालीन इलाज करवाना चाहिए.


Instagram पर #SummerLove #ILoveSummer वालों से हद चिढ़ होती है, झूठे कहीं के!

पर इस सड़ी, गली गर्मी में गुज़ारा अगर कोई आसान बना देता है, तो वो है 'आम'.

Source: Tenor

यूं तो ज़िन्दगी में कई फल आए और गए पर किसी ने भी मन में वो एहसास नहीं जगाए, जो आम जगाता है.

वैसे तो रहिमन कह गए हैं कि 'इस संसार में भांति-भांति के लोग' मगर मुझे दो बातें समझ नहीं आती-

1) लोग छुरी-कांटे से आम कैसे खाते हैं
2) लोगों को आम नापसंद कैसे हो सकता है? कैसे मतलब कैसे?

आम जैसी पवित्र चीज़, जिसका सीधा कनेक्शन हाथ और दांत से होना चाहिए उसे कुछ लोग छुरी-कांटा लगाकर अपवित्र करने की हिम्मत कैसे कर सकते हैं?

अब बुद्धिजीवी लोग कहेंगे कि सबकी अपनी-अपनी पसंद. नहीं भाई, अगर मोदी जी 'पीपल्स प्रधानमंत्री' हैं तो आम भी सभी को पसंद होना चाहिए. और आम को हाथ में लेकर खाने का जो सुख है न, वो कांटे में घोंपकर खाने में बिल्कुल नहीं है.

Source: Mashable India

इन लोगों को भी मैं एक बार को माफ़ कर दूं पर वो लोग जिन्हें आम पसंद नहीं, वो न सिर्फ़ मेरे बल्कि पूरी इंसानियत के दुश्मन हैं!

दो देशों को जोड़ने वाले आम को नापसंद करने वालों को पहली टिकट से मंगल, शनि, शुक्र किसी भी ग्रह पर भेज देना चाहिए! मुझे तो ये भी लगता है कि आम को नापसंद करने वाले वही लोग होंगे जिन्हें लगता है कि वेज बिरयानी जैसी कोई चीज़ भी होती है!

Source: My girlypedia

आम को नापसंद करने वालों के लिए मेरे मुंह से 'आम' वाली गाली ही निकली है(सॉरी, नॉट सॉरी!)


मैं तो कब से ये कह रही हूं कि आम वाले उस Ad में कटरीना की जगह मुझे ले लेते। फ़्री में कर लेती!

दूसरों के लिए होता होगा, 'एन एप्पल अ डे कीप्स द डॉक्टर अवे', मेरे लिए तो 'मेरे तो आम, रसदार. दूसरो न कोई!'


अगर आप भी आम के दीवाने हो तो कमेंट बॉक्स में बताओ.

नोट: हां आम को लेकर पगलैट हूं और मुझे इस बात पर गर्व है!