आंध्र प्रदेश के अनंतपुर ज़िले में भुखमरी और कुपोषण के चलते तीन वर्षीय संतोष और उसके दो साल की चचेरी बहन वेनेला की मौत हो गई है. इन दोनों ही बच्चों के माता-पिता दिहाड़ी मजदूरी का काम करते हैं.

Source: thelogicalindian

बड़े दुःख की बात है कि इस देश में जहां लोग हर दिन सैकड़ों टन खाना बर्बाद कर देते हैं वहीं दो मासूम बच्चे भूख मिटाने के लिए कीचड़ खाने को लाचार हैं.

बीते रविवार को भोजन न मिलने पर मिट्टी खाने से दो साल की वेनेला की मौत हो गयी. दो साल की वेनेला अपनी मौसी नागमणि के पास रह रही थी. नागमणि अपने पति, मां और बच्चों के साथ कादिरी ज़िले के कुमारावंदलापल्ले गांव में रहती हैं.

Source: asianews

दरअसल, नागमणि और उनके पति महेश रोज़गार की तलाश में लगभग दस साल पहले कर्नाटक के चिकबल्लापुर ज़िले से कदीरी चले आये थे. ये दोनों यहां पर अपने पांच बच्चों, नागमणि की मां और बहन की बेटी वेनेला का पेट पालने के लिए दिहाड़ी मजदूरी का काम करते हैं.

दरअसल, नागमणि और महेश के 3 साल के बेटे संतोष की भी 6 महीने पहले भुखमरी और कुपोषण के कारण से मौत हो गई थी.

Source: businessinsider

कादिरी ग्रामीण के इंस्पेक्टर ए इस्माइल का कहना है कि इस दम्पति के पास रहने के लिए घर भी नहीं है. कुल 8 लोगों का ये परिवार एक अस्थायी झोपड़ी में रह रहा है. नागमणि और महेश ने दोनों बच्चों की देखभाल और पोषण का सही से ख्याल नहीं रखा, जिस कारण उनकी मौत हुई. मौत के बाद दोनों बच्चों को झोपड़ी के करीब ही दफ़ना दिया गया था.

नागमणि और महेश के पड़ोसियों ने ही इस दर्दनाक वाकये की जानकारी कादिरी ग्रामीण के एसआई वेंकटस्वामी को दी थी.

पुलिस के मुताबिक़, इनके पड़ोसियों का कहना था कि दोनों बच्चों ने भूख सहन न कर पाने के बाद कीचड़ खा लिया था.

Source: livemint

ज़िले के स्वास्थ्य एवं चिकित्सा अधिकारी केवीएनएस अनिल कुमार ने बताया कि दोनों बच्चों के माता-पिता काम की तलाश में बच्चों को उनकी दादी के साथ घर पर छोड़ दिया करते थे. हम अभी भी उसके पिता का पता नहीं लगा पाए हैं. हमारे सहायकों ने उन्हें टीकाकरण दिया था, लेकिन पेरेंट्स ने उनका सही से ख़याल नहीं रखा. बच्चों का पोस्टमॉर्टम तो नहीं किया गया, लेकिन हम अंदाज़ा लगा सकते हैं कि उनकी मौत भूख और कुपोषण के कारण ही हुई थी.

Source: catchnews

कादिरी के राजस्व विभाग के अधिकारी टी अजय कुमार ने बुधवार को अनंतपुर ज़िला कलेक्टर के निर्देश पर घटना की जांच की. रिपोर्ट में कहा गया है कि महेश की पत्नी और सास रोजाना शराब पीती हैं. उन्होंने बच्चों की ठीक से देखभाल भी नहीं की, बच्चों के लिए खाना नहीं बनाया जाता था.

रिपोर्ट में वेनेला की मौत को लेकर कहा गया है कि नागमणि और उसकी मां ने उसकी सही तरीके से देखभाल नहीं की. भूख और कुपोषण के कारण उसकी सेहत बिगड़ी. इस स्थिति में भी न तो नागमणि और न ही उसकी मां ने उसे अस्पताल ले गई न ही स्वास्थ्य कार्यकर्ता को सूचित किया.

'चाइल्ड वेलफ़ेयर प्रोग्राम्स' की विफ़लता

Source: facebook

बाल अधिकारों के लिए लड़ने वाले एनजीओ 'बालाला हक्कुला संघम' की अध्यक्ष अच्युता राव ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को पत्र लिखकर बच्चों को न्याय दिलाने और मौतों के लिए जिम्मेदार सरकारी अधिकारियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की मान की है. ये सुनिश्चित करना सरकार की जिम्मेदारी है कि 'बाल कल्याण योजनाओं' की जानकारी माता-पिता तक पहुंचे.

Source: bbc.com

इन दो बच्चों की मौत के बाद अब जाकर प्रशासन हरकत में आया है. इस परिवार के सभी बच्चों को एक स्थानीय आंगनवाड़ी केंद्र भेज दिया गया है.