रमज़ान के पाक महीने में यूएई से एक आपसी सौहार्द की ख़बर आई है. यहां एक ईसाई करीब 800 लोगों को रोज़ इफ़्तारी का प्रबंध कर रहे हैं. ये वही शख़्स हैं जिन्होंने पिछले साल लोगों के लिए मस्जिद बनवाकर सुर्खियां बटोरी थीं.

Source: NDTV.com

भारतीय मूल के इस शख़्स का नाम है साजी चेरियन. इन्होंने पिछले साल यूएई के फ़ुजैरा इलाके में एक मस्जिद बनवाई थी. वजह थी रमज़ान के दौरान लोगों का टैक्सी लेकर मस्जिद में नमाज़ पढ़ने जाना. उन्होंने देखा कि लोग अपनी गाढ़ी कमाई का बहुत बड़ा हिस्सा मस्जिद आने-जाने में ख़र्च कर देते हैं.

इसी को ध्यान में रखकर चेरियन ने इस मस्जिद का निर्माण करवाया था. ये पिछले साल लोगों के लिए खोल दी गई थी. इस साल वो इसी मस्जिद में अलग-अलग कंपनियों के 800 कर्मचारियों के लिए इफ़्तारी का प्रबंध कर रहे हैं.

Source: Indiatimes

चेरियन साल 2003 में केरल से यूएई गए थे. उन्होंने इस बारे में बात करते हुए कहा- पिछले साल मैं सिर्फ़ 14 दिनों के लिए रमज़ान में लोगों को इफ़्तार के दौरान खाना खिला पाया था. लेकिन इस बार मैंने पूरे महीने ऐसा करने की पूरी तैयारी कर ली थी.

इफ़्तार के दौरान रोज़ेदारों को ख़जूर, बिरयानी, स्नैक्स, फल और जूस उपलब्ध कराए जा रहे हैं. चेरियन का कहना है कि लोगों को एक ही तरह की बिरयानी न खानी पड़े, इसके लिए वो अलग-अलग प्रकार की बिरयानी सर्व कर रहे हैं.

Source: News18.com
इस इफ़्तार में शामिल होने वाले एक पाकिस्तानी बुज़ुर्ग ने कहा- दुनिया को चेरियन जैसे लोगों की ज़रूरत है. यदि उनके जैसे लोग नहीं होंगे तो दुनिया ख़त्म हो जाएगी. हम उनके लिए दुआ करते हैं.

ये मस्जिद अल हयाद इलाके के East Ville Real Estate कॉम्पलेक्स में बनी है. यहां सभी वर्ग के कर्मचारी एक साथ नमाज़ पढ़ते हैं और साथ ही इफ़्तार करते हैं. चेरियन ने सबके सामने एक धार्मिक सदभावना की मिसाल पेश की है. उनके इस कदम से अन्य लोग भी ज़रूर प्रेरित होंगे.