मन के हारे हार, मन के जीते जीत 

इंसान का मन पक्का हो तो कोई भी काम असम्भव नहीं है.

ऐसे ही एक असम्भव काम को संभव कर दिखाया है दो दोस्तों ने. 

Melani Knecht and Trevor Hahn
Source: instagram/hiking_with_sight

Melani Knecht और Trevor Hahn इन दोनों दोस्तों ने हाईकिंग पर जाने के अपने सपने के बीच आई हर बाधा को पार कर दिखाया है कि इंसान ठान ले तो वो क्या कुछ नहीं कर सकता. 

आप सोच रहे होंगे इनमें ऐसी क्या ख़ास बात है? जो बात इन दोनों दोस्तों को अलग बनाती है वो ये कि Melani चल नहीं सकती, वहीं Trevor देख नहीं सकता.

mountain hikers
Source: instagram/hiking_with_sight

Melani 29 साल की है और Spina Bifida (एक जन्म दोष बीमारी जिसमें रीढ़ की हड्डी ढंग से काम नहीं करते) नामक बीमारी के साथ जन्मी थी. Trevor 42 साल का है और 5 साल पहले Glaucoma(काला मोतिया) के चलते उसकी आंखों की रौशनी चली गई थी. 

Aleteia.org के आर्टिकल के अनुसार Melani अक्सर व्हीलचेयर की मदद से अपने सारे काम करती थी जिसकी वजह से हाईकिंग जैसा काम करना तो उसके लिए बहुत मुश्किल था. वहीं, दूसरी ओर Trevor हाईकिंग तो करता था पर उसे दूसरे हाईकर्स पर निर्भर रहना पड़ता था.

beautiful nature
Source: instagram/hiking_with_sight

एक एक्सरसाइज़ प्रोग्राम के दौरान दोनों पिछले साल एक दूसरे से मिले थे और ज़ल्द ही अच्छे दोस्त बन गए. दोनों के प्रकृति और हाईकिंग के प्रति जुनून ने उन्हें एक साथ आने के लिए प्रेरित किया.   

View this post on Instagram

One step at a time... 🏔🥾👀 #hikingwithsight

A post shared by Trevor & Melanie (@hiking_with_sight) on

Trevor, Melani को एक विशेष रूप से निर्मित बैकपैक के सहारे उठाता है. Outside में छपे आर्टिकल के अनुसार, Melani एक प्रशिक्षित गायक है और बहुत अच्छे से Trevor को रस्ता गाइड करती है. 

Adaptive Hikers
Source: instagram/hiking_with_sight

Trevor और Melani की ये अनोखी दोस्ती हमको एकता का महत्व समझाती है. आख़िरकार, हम सब, कहीं न कहीं कुछ मामलों में कमज़ोर हैं तो कुछ में ताक़त.