दशहरा वो त्यौहार है जो तकरीबन पूरे भारत में मनाया जाता है. यहां हमने तक़रीबन इसलिए लिखा है क्योंकि देश के कुछ ऐसे हिस्से भी है, जहां पर ये त्यौहार नहीं मनाया जाता. न ही यहां पर दशहरे पर रावण का पुतला फूंकने की परंपरा है. यही नहीं, कुछ जगह पर तो रावण की पूजा भी की जाती है, तो कहीं मनाया जाता है शोक. आइए जानते हैं ऐसे ही जगहों के बारे में जहां पर दशहरे के त्यौहार पर रावण का पुतला फूंकना असुभ माना जाता है.

1. बैजनाथ कस्बा- हिमाचल प्रदेश

Source: punjabkesari

कांगड़ा ज़िले के इस कस्बे में रावण की पूजा की जाती है. कहते हैं कि यहां पर रावण ने भगवान शिव की तपस्या की थी. इससे ख़ुश होकर शिव ने रावण को मोक्ष का वरदान दिया था. यहां पर रावण के पुतले भी नहीं जलाए जाते.

2. दशानन मंदिर- उत्तर प्रदेश

Source: livehindustan

कानपुर के शिवाला इलाके में स्थित इस मंदिर में रावण की मूर्ती है. दशहरे के दिन इसे सजाकर उसकी आरती की जाती है. सिर्फ़ एक ही दिन के लिए इसे खोला जाता है और रावण के दर्शन करने के लिए यहां पर भीड़ उमड़ पड़ती है.

3. लंकेश्वर महोत्सव- कर्नाटक

Source: prabhatkhabar

कर्नाटक के कोलार में रावण का एक मंदिर है. यहां पर हर साल दशहरे को लंकेश्वर महोत्सव मनाया जाता है. इस दौरान रावण के साथ भगवान शिव की मूर्ति का जुलूस पूरे क्षेत्र में निकाला जाता है.

4. मंडोर- राजस्थान

Source: news18

राजस्थान के जोधपुर में मौजूद मंडोर को रावण का ससुराल कहा जाता है. यहां के श्रीमाली ब्राह्मण समाज के लोग ख़ुद को रावण का वंशज कहते हैं और रावण की पहली पत्नी मंदोदरी को अपनी बेटी. इसलिए यहां पर दशहरे के दिन ख़ुशी नहीं, शोक मनाया जाता है. क्योंकि इस दिन उनकी बेटी विधवा हो गई थी.

5. विदिशा- मध्य प्रदेश

Source: hindustantimes

इसे भी मंदोदरी का जन्मस्थान माना जाता है. यहां के लोग दशहरे के दिन रावण की मूर्ति की पूजा-अर्चना करते हैं. शादी जैसे शुभ अवसर पर मूर्ति से आशीर्वाद भी लेते हैं.

6. काकिनाड- आंध्र प्रदेश

Source: inextlive

आंध्र प्रदेश के इस इलाके में भी रावण का मंदिर है. यहां पर दशहरे के दिन रावण और भगवान शिव की पूजा की जाती है.

7. अमरावती- महाराष्ट्र

Source: thehindu

अमरावती के गढचिरौली में रहने वाले आदिवासी रावण को पूजते हैं. वो रावण को उनका कुल देवता मानते हैं.

8. मंदसौर- मध्य प्रदेश

Source: dailyhunt

मंदसौर में रावण रुण्डी नाम से रावण की विशाल मूर्ति मौजूद है, जिसकी पूजा की जाती है. कहते हैं कि ये रावण का सबसे पहला मंदिर है. यहां के लोग रावण को मंदसौर का दामाद मानते हैं. कहते हैं कि मंदोदरी के नाम पर ही इसका नाम मंदसौर पड़ा.

9. बिसरख- उत्तर प्रदेश

Source: indiatoday

नोएडा के इस इलाके में दशहरे के दिन रावण की आत्मा की शांति के लिए यज्ञ किया जाता है.

10. कुल्लू- उत्तराखंड

Source: jagran

यहां का दशहरा दुनियाभर में फ़ेमस है. यहां पर रावण, मेघनाथ और कुंभकरण के पुतले नहीं जलाए जाते. इसके अलावा यहां पर सात दिनों तक ये उत्सव मनाया जाता है. इस दौराना भगवनान रघुनाथ की शोभायात्रा भी निकाली जाती है.

तो देखा आपने हमारे ही देश में कहीं दशहरा मनाते हैं, तो कहीं नहीं. देश की यही विविधता ही हमारे देश को अतुल्य बनाती हैं. क्यों है कि नहीं?

Lifestyle से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.