अल्मोड़ा उत्तराखंड का प्राचीन और ऐतिहासिक शहर है. करीब 1650 मीटर की ऊंचाई पर बसा ये ख़ूबसूरत हिल स्टेशन कुमाऊं के चंद राजाओं की राजधानी भी रहा है. अल्मोड़ा को उत्तराखंड का सांस्कृतिक केन्द्र भी माना जाता है. अल्मोड़ा की लाल बाज़ार की पतली सड़कों पर घूमें, तो लगता है पुराने समय में आ गये हैं. यहां लकड़ी की बनी छोटी-छोटी दुकानें इस शहर को एक अनोखा रूप देती हैं.

Source: wikipedia

नैनीताल से करीब 60 किमी की दूरी पर स्थित इस हिल स्टेशन के आस-पास कई प्राचीन मंदिर हैं. अल्मोड़ा की होली विश्व विख्यात है. इस हिल स्टेशन जाएं तो यहां की प्रसिद्ध 'बाल मिठाई' खाना न भूलें. अगर आप भी इस ख़ूबसूरत हिल स्टेशन की ट्रिप पर निकलने की सोच रहे हैं, तो यहां की इन 10 जगहों पर जाना न भूलें.

1- जागेश्वर धाम

Source: templepurohit

जागेश्वर, अल्मोड़ा का प्रमुख धार्मिक स्थल है. अल्मोड़ा से करीब 35 किलोमीटर दूर घने जंगल में मौजूद जागेश्वर पहुंचते ही असीम शांति का एहसास होता है. जागेश्वर की गणना भगवान शिव के बारह ज्योर्तिलिंगों में की जाती है. यहां 7वीं शताब्दी से 18वीं शताब्दी के बीच करीब 100 से ज़्यादा मंदिर बनाए गए हैं. मान्यता है भगवान शिव के लिंग रूप की पूजा जागेश्वर से ही शुरू हुई. जागेश्वर को 'कुमाऊं का काशी' भी कहा जाता है.

2- बिनसर

Source: hotelscombined

अल्मोड़ा से करीब 30 किमी की दूरी पर बिनसर 'Wildlife Sanctuary' के लिए प्रसिद्ध है. झांडीधार पहाड़ी पर स्थित बिनसर प्राकृतिक सौंदर्य के लिए प्रसिद्ध है. बिनसर से हिमालय की नंदा देवी, त्रिशुली, पंचाचुली, नंदाकोट, मृगधूनी जैसी बर्फीली चोटियों का 300 किलोमीटर लंबा अद्भुत नज़ारा दिखाई देता है. यहां पर आप 'बिनसर महादेव' के ख़ूबसूरत मंदिर के दर्शन भी कर सकते हैं.

3- रानीखेत

Source: journeydeal

रानीखेत को प्रकृति प्रेमियों का स्वर्ग माना जाता है. रानीखेत अल्मोड़ा का प्रमुख पर्यटन स्थल है. ब्रिटिश काल के दौरान रानीखेत अंग्रेज़ों की समर कैपिटल मानी जाती थी. रानीखेत 'कुमाऊं रेजिमेंट' का सेंटर भी है. साफ़-सुथरी सड़कें, गोल्फ़कॉर्स, सेना का म्यूज़ियम, फलों के बगीचे और प्राचीन मंदिर रानीखेत को ख़ास बनाते हैं. यहां का 'चौबटिया गार्डन' अनेकों रसीलेदार फ़लों के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध है.

4- चितई मंदिर

Source: uttarakhandnews1

इस मंदिर को घंटी वाले मंदिर के नाम से भी जाना जाता है. गोलू देवता को समर्पित इस ख़ूबसूरत मंदिर की ख़ास बात ये है कि आप भगवान को चिट्ठी लिखकर अपनी मनोकामना पूरी कर सकते हैं. यहां पर आपको लाखों की संख्या में चिट्ठी व घंटियां देखने को मिल जाएंगी. ये मंदिर अल्मोड़ा से 8 किमी दूर पिथौरागढ़ हाईवे पर स्थित है.

5- शीतलाखेत

Source: daaju.com

अगर आप भी शहर की दौड़-भाग भरी ज़िंदगी से दूर किसी ऐसे जगह की तलाश में हैं जहां सिर्फ़ और सिर्फ़ सुकून हो तो शीतलाखेत ही वो जगह है. शीतलाखेत रानीखेत से करीब 30 किमी की दूरी पर स्थित है. शुद्ध हवा, शांत वातावरण, सुबह-सुबह चिड़ियों का चहचहाना, नींद खुलते सामने ख़ूबसूरत हरे-भरे पहाड़ों का मनोरम दृश्य किसी को भी आकर्षित करने के लिए काफ़ी हैं. शीतलाखेत की यही ख़ासियत है.

6- पंडित गोविंद बल्लभ पंत संग्रहालय

Source: exploreyourself

ये संग्रहालय अल्मोड़ा शहर में मॉल रोड पर स्थित है. इस संग्रहालय को साल 1980 में पंडित गोविंद बल्लभ पंत के उल्लेखनीय कार्यों के लिए बनाया गया था. इस संग्रहालय में कतियूरी और चंद राजवंश के शासकों से संबंधित कई प्राचीन वस्तुओं का एक अनूठा संग्रह देखने को मिलेगा. इसके अलावा भी आप यहां पर उत्तराखंड की संस्कृति के बारे में जान सकते हैं.

7- Bright End Corner

Source: ixigo.com

अल्मोड़ा से करीब 2 किमी की दूरी पर स्थित 'Bright End Corner' से पर्यटक सूर्यास्त और सूर्योदय के ख़ूबसूरत नज़ारे का लुत्फ़ उठा सकते हैं. इस जगह का नाम Mr. Brighton के नाम पर रखा गया है. इसके आस-पास कई अन्य ख़ूबसूरत जगहें भी हैं.

8- कसार देवी मंदिर

Source: chardhamtours

कसार देवी मंदिर अल्मोड़ा से करीब 8 किमी की दूर कसार देवी गांव में स्थित है. कश्यप पर्वत पर स्थित ये प्रसिद्ध मंदिर दूसरी शताब्दी के समय का बताया जाता है. गुफानुमा जगह पर बने इस मंदिर जाता है कि कसार देवी मंदिर में ही मां दुर्गा साक्षात प्रकट हुयी थी. इस मंदिर में मां दुर्गा के आठ रूपों में से एक रूप 'देवी कात्यायनी' की पूजा की जाती है.

9- Zero Point

Source: tripadvisor

'बिनसर वन्यजीव अभयारण्य' में बना Zero Point एक टावर है. इस टावर से पर्यटक नंदा देवी और केदारनाथ पर्वत शिखर के शानदार नज़ारों लुत्फ़ उठाते हैं. करीब 2400 मीटर की ऊंचाई पर स्थित इस जगह तक ट्रेकिंग ट्रेल सहारे पहुंचा जा सकता है.

10- कैंची धाम

Source: nkbashram

विश्व विख्यात 'कैंची धाम' अल्मोड़ा जाने वाले रास्ते में ही पड़ता है जो नैनीताल ज़िले में स्थित है. कैंची धाम हनुमान जी का प्रमुख मंदिर है. ये मंदिर 'नीम करौली बाबा' के लिए भी जाना जाता है जिन्हें हनुमान जी का धरती पर दूसरा रूप कहा जाता है. फ़ेसबुक फ़ाउंडर मार्क जुकरबर्ग, एप्पल फ़ाउंडर स्टीव जॉब्स, हॉलीवुड अभिनेत्री जूलिया राब‌र्ट्स और जाने-माने लेखक रिच्रर्ड एलपर्टने यहां आने के बाद ही बड़ी शख़्सियत बने थे.

कैसे जाएं?

Source: spholidays

अल्मोड़ा जाने के लिये ट्रेन से काठगोदाम या फिर रामनगर तक जाया जा सकता है. यहां से बस या फिर टैक्सी से 3 से 4 घंटे में अल्मोड़ा पहुंच सकते हैं.

कब जाएं?

Source: spholidays

अल्मोड़ा जाने के लिए मार्च से जून या फिर सितंबर से दिसंबर तक का समय उचित रहेगा. जुलाई और अगस्त के महीने में यहां काफ़ी बारिश होती है.