कहते हैं तुलसी का पौधा जिस घर में होता है, उस घर में सुख और समृद्धि बनी रहती है. इसलिए ज़्यादातर हिंदू परिवारों में तुलसी को सुबह-सुबह जल चढ़ाकर दिन की शुरुआत की जाती है. लेकिन क्या आपको पता है, जो तुलसी आपके जीवन को सुख और समृद्ध बनाती है उस तुलसी का प्रयोग औषधि के रूप में भी किया जाता है.

Source: healthline

कई बड़ी-बड़ी बीमारियों में छोटी सी तुलसी की पत्ती भी बहुत कारगर होती है. खेलते-खेलते बच्चे को चोट लग जाए, तो उस पर तुलसी का रस लगा देने से आरान मिल जाता है या फिर सांप के काटने पर भी तुलसी एक कारगर इलाज है.

इसके अलावा भी कई बेजोड़ और लाजवाब फ़ायदों से भरी तुलसी:

1. आंखों के लिए

श्यामा तुलसी के पत्तों का दो-दो बूंद रस 14 दिनों तक आंखों में डालने से रतौंधी ठीक हो जाती है. इसके अलावा इसका रस काजल की तरह लगाने से आंख की रौशनी बढ़ती है.

2. दिल के लिए फ़ायदेमंद

तुलसी के दस पत्ते, पांच काली मिर्च और चार बादाम को पीसकर आधा गिलास पानी में एक चम्मच शहद के साथ लेने से सभी प्रकार के हृदय रोग ठीक हो जाते हैं.

3. पीरियड्स के दिनों में लाभदायक

Period की अनियमितता को दूर करने के लिए तुलसी के पत्तों का नियमित रूप से सेवन करें.

4. किडनी को रखे हेल्दी

पथरी में तुलसी की पत्तियों को उबालकर बनाए गए जूस को शहद के साथ 6 महीनों तक रोज़ाना पीने से पथरी ख़त्म होकर बाहर निकल जाती है.

5. माइग्रेन और साइनस से राहत

तुलसी का काढ़ा पीने से माइग्रेन और साइनस में आराम मिलता है. अगर आप पुराने सिर दर्द से परेशान हैं, तो रोज़ सुबह और शाम को एक चौथाई चम्मच तुलसी का रस, एक चम्मच शुद्ध शहद के साथ लेने से 15 दिनों में आपका दर्द पूरी तरह से ठीक हो सकता है.

6. सांप के काटे की 'काट' है तुलसी

अगर किसी को सांप ने काट लिया है, तो पीड़ित व्यक्ति को तुरंत तुलसी खिलानी चाहिए. ऐसा करने से उसकी जान बच सकती है. इसके अलावा जिस जगह पर सांप ने काटा हो उस पर तुलसी की जड़ को मक्खन या घी में घिसकर लेप करें.

7. वात रोग दूर करे

गठिया के दर्द में तुलसी की जड़, पत्ती, डंठल, फल और बीज को मिलाकर उसका चूर्ण बनाएं. इसमें पुराना गुड़ मिलाकर 12-12 ग्राम की गोलियां बना लें. सुबह-शाम गाय या बकरी के दूध के साथ लें, ऐसा करने से गठिया व जोड़ों के दर्द में लाभ होता है.

8. टीबी रोग में लाभकारी

तुलसी, दमा और टीबी रोग में बहुत लाभकारी है. रोज़ाना तुलसी खाने से दमा और टीबी नहीं होता. इसके अलावा शहद, अदरक और तुलसी को मिलाकर बनाया गया काढ़ा पीने से दमा, कफ़ और सर्दी में राहत मिलती है.

9. कुष्ठ रोग का ब्रह्मास्त्र

तुलसी की जड़ को पीसकर, सोंठ मिलाकर पानी के साथ रोज़ सुबह-सुबह पीने से कुष्ठ रोग में लाभ मिलता है.

10. बुखार में तुलसी खाएं

सभी प्रकार के बुखार को जड़ से ख़त्म करने के लिए तुलसी कारगर साबित होती है. तुलसी की मदद से किसी भी तरह के बुखार को बगैर पैरासिटामॉल और एंटीबायोटिक के उपयोग के भी ठीक किया जा सकता है.

11. मलेरिया से बचाए

तुलसी की 11 पत्तियों का 4 खड़ी काली मिर्च के साथ सेवन करने से, मलेरिया और Typhoid को ठीक किया जा सकता है.

12. यौन रोगों का इलाज है इस तुलसी में

पुरुषों में शारीरिक कमज़ोरी होने पर तुलसी के बीज का इस्तेमाल काफ़ी फ़ायदेमंद होता है. इसके अलावा यौन-दुर्बलता और नपुंसकता में भी इसके बीज का नियमित इस्तेमाल फ़ायदेमंद रहता है.

अगर तुलसी के ये फ़ायदे उठाना चाहते हैं, तो सबसे पहले अपने घर में तुलसी का पौधा लगाइए.

Design By: Kumar Sonu