हर गली में भंडारा, सुबह-सुबह देवी के गाने और आरती ये है Navratri की पहचान. इन दिनों लोग मंदिरों के दर्शन करने ज़्यादा जाते हैं. और दिनों में आपके पास वक्त नहीं होता है, लेकिन नवरात्र पर आप समय निकाल ही लेते हैं, तो अगर समय निकाल लिया है और Delhi में हैं, तो दिल्ली के ये 5 Temple ज़रूर घूम लीजिए.

Source: news18

ये रहे इन 5 Temples के नाम:

1. कालका जी मंदिर

इस मंदिर में काली मां की मूर्ति है. इसकी मान्यता इतनी ज़्यादा है कि लोग दूर-दूर से यहां दर्शन के लिए आते हैं. ये एक ऐतिहासिक और प्राचीन मंदिर है. ये मंदिर दिल्ली के कालका जी इलाके में स्थित है. सबसे अच्छी बात है कि आप मेट्रो से सीधे यहां जा सकते हैं.

Source: jogurucdn

2. शीतला माता मंदिर

गुरुग्राम स्थित शीतला मंदिर का नाम गुरूद्रोणाचार्य की पत्नी माता शीतला देवी पर रखा गया है. यहां उन्होंने पांडव और कौरवों को शिक्षा दी थी ऐसा महाभारत में लिखा है. श्रद्धालुओं को यहां पर मूर्ती छूने का अधिकार नहीं है. दूर से ही दर्शन और फूल चढ़ाए जाते हैं. स्कंद पुराण के अनुसार इन्हें स्वच्छता की देवी भी कहा जा सकता है.

Source: blogspot

3. योगमाया मंदिर

महरौली में क़ुतुब मीनार के क़रीब स्थित योगमाया मंदिर का नज़ारा नवरात्र में बहुत ही सुंदर होता है. इसे जोगमाया मंदिर भी कहते हैं. ये पांच हज़ार साल पुराना मंदिर है. इसकी स्थापना पांडवों ने की थी. मान्यता तो ये भी है कि भगवान कृष्ण ने यहां पर पूजा की थी. क्योंकि भगवान कृष्ण की योगमाया बड़ी बहन थीं.

Source: astrolika

4. छतरपुर मंदिर

छतरपुर मंदिर, कात्यायनी शक्तिपीठ मंदिर है. नवरात्र के दिनों में यहां पर तरह-तरह के प्रोग्राम्स का आयोजन किया जाता है. ये दिल्ली के सबसे बड़े मंदिरों में दूसरा माना जाता है.

Source: wp

5. झंडेवालान मंदिर

ये मंदिर झंडेवाली माता को समर्पित है. ये मंदिर बहुत प्रसिद्ध और देवी शक्ति का प्रतीक है. इस मंदिर का नाम शाहजहां के शासनकाल में रखा गया था जब शाहजहां ने प्रार्थना के रूप में देवी को झंडा अर्पित किया था. ये झंडेवालान रोड पर है. मेट्रो सीधी झंडेवालान तक जाती है, तो जाने की भी समस्या नहीं होगी.

Source: indianexpress

6. गुफ़ा मंदिर

दिल्ली के प्रीत विहार में स्थित ये मंदिर 22 साल पुराना है. इसे Gigantic Cave के नाम से जाना जाता है. इस मंदिर की बनावट बिल्कुल वैष्णो मंदिर की तरह होने की वजह से आपको यहां जाने पर बिल्कुल वहीं होने का एहसास होगा. इस मंदिर में छोटी सी गुफ़ा है. इसमें तीन देवियों की मूर्तियां हैं, जिनमें चिंतपुरी, ज्वाला देवी और कात्यायनी माता शामिल हैं.

Source: ytimg

माता के दर्शन में देर और सोचना कैसा, वक़्त निकालिए और चले जाइए.