90s Birthday Party Moments: 90 के दशक में होने वाली बर्थडे पार्टी (Birthday Party) की बात ही कुछ अलग होती थी. बर्थडे का महीना शुरू हुआ नहीं कि मन में बस एक्साइटमेंट के गुब्बारे फूटने लगते थे. किन-किन को बुलाना है, क्या गेम्स खेलने हैं और सबसे ऊपर दोस्तों और घरवालों से नए-नए गिफ्ट्स मिलने की जो ख़ुशी होती थी, उसे शब्दों में बयां करना काफ़ी मुश्किल है. हमारे लिए उस दौर में बर्थडे पार्टीज़ सिर्फ़ एक इवेंट नहीं, बल्कि एक इमोशन हुआ करती थीं.

तो चलिए क्यों न 90s (90s Birthday Party Moments) की यादों में फिर से डूबकर उस दौर की आइकॉनिक बर्थडे पार्टीज़ की चीज़ें याद कर लेते हैं, जिन्हें आज हम में बेहद मिस करते हैं.

90s birthday party
Source: globalgiving

90s Birthday Party Moments

1. बर्थडे हैट

90s के बच्चों की बर्थडे पार्टीज़ में दिखने वाली 'कोन हैट' को भला कौन भूल सकता है. अगर बर्थडे के दिन इलास्टिक वाली चमचमाती टोपी न हो, तो उस दौर की बर्थडे पार्टी अधूरी सी मानी जाती थी. भले ही ये पहनने में कितनी ही अनकंफ़र्टेबल हो और गर्दन पर लाल निशान छोड़ जाए, लेकिन हमें इन सबसे इंच भर भी फ़र्क नहीं पड़ता था. 

birthday hat 90s india
Source: mensxp

ये भी पढ़ें: 90s की ये 22 चीज़ें अब नुक्कड़ की दुकान में नहीं सिर्फ़ हमारी यादों में ही मिलती हैं

2. फ़ूड मेन्यू

90s की हर बर्थडे पार्टी में स्टैंडर्ड मेन्यू आलू भुजिया, समोसा, बिस्किट, गुलाब जामुन, आलू चिप्स और केक होता था. इसे बच्चे बड़े चाव से खाते थे. चाहे कितना भी अपने पेरेंट्स को इस मेन्यू में बदलाव लाने की ज़िद्द कर लो, लेकिन भला इतनी किसकी मजाल कि ये मेन्यू टस से मस हो जाए.  (90s Birthday Party Moments)

3. नए कपड़े

दुनिया चाहे इधर की उधर हो जाए, लेकिन हर साल बर्थडे के दो दिन पहले नए कपड़े ख़रीदना तो जैसे हिटलर का रूल था. जब तक नए कपड़े न आ जाएं, तक तक मुंह लटका ही रहता था. लेकिन नये कपडे मिलने की ख़ुशी भी शब्दों में बयां नहीं कर सकते.

4. म्यूज़िकल चेयर्स

ये उस दौर के सबसे पॉपुलर गेम्स में से एक था. इसमें कई सारी कुर्सियां लाइन से लगायी जाती थीं, फिर उनके पीछे बच्चों को गाना बजते रहने तक चारों ओर घूमना होता था. गाना कभी भी बंद कर दिया जाता था और गाना बंद होते ही बच्चों को उन कुर्सियों पर बैठना होता था. जो कुर्सी पर नहीं बैठ पाया, वो आउट हो जाता था. हर राउंड पर कुछ कुर्सियां कम कर दी जाती थीं. आखिर में कुर्सी पर बैठने वाले को विनर घोषित कर दिया जाता था. (90s Birthday Party Moments)

musical chairs kids india
Source: youtube

5. रसना ड्रिंक

बर्थडे केक के बाद रसना ड्रिंक (Rasna Drink) पीना तो ज़रूरी होता था. इसके साथ ही एक ऐसा बच्चा भी पार्टी में ज़रूर पाया जाता था, जिसके कपड़ों पर ग़लती से ये ड्रिंक गिर जाती थी. भले ही उस दौरान मम्मी बच्चे के सामने कूल मॉम की तरह एक्ट करें, लेकिन बाद में सुताई हमारी ही होती थी.

6. टॉफ़ी और चॉकलेट से भरा बैलून

ध्यान है बर्थडे की डेकोरेशन के दौरान एक टॉफ़ी और चॉकलेट से भरा बैलून पंखे पर लटकाया जाता था? सारे बच्चों की नज़र केक से ज़्यादा उस बैलून में भरी ज़्यादा से ज़्यादा कैंडीज़ और चॉकलेट हथियाने में होती थी. जैसे ही केक कटिंग के समय वो बैलून फोड़ा जाता था, वैसे ही सारे बच्चे बर्थडे बॉय या गर्ल से ध्यान हटाकर उस बैलून पर टूट पड़ते थे. 

7. फ़ोटोज़ क्लिक करना

पेरेंट्स और दोस्तों के साथ कोडक कैमरा से फ़ोटोज़ क्लिक करवाना तो बेहद ज़रूरी होता था. इसके साथ ही सारी बर्थडे पिक्चर्स को प्रिंट किया जाता था, जिसमें एक फ़ोटो आपके दांतों में लगे हुए केक की ज़रूर होती थी. इसके साथ ही मम्मी, पापा से लेकर बाकी सभी फ़ैमिली मेंबर्स की केक खिलाते हुए फ़ोटो में से किसी एक की भी मिस हो जाए, तो उसका मुंह बन जाता था. 

90s birthday party photos
Source: reddit

8. छुपन छुपाई

छुपन-छुपाई गेम तो हर बर्थडे पार्टी की शान हुआ करता था. इसमें बर्थडे बॉय को डेन बिल्कुल भी नहीं बनाया जाता था. साथ ही कभी-कभी तो घर में लोग ऐसी जगह छुप जाते थे कि उन्हें ख़ुद ही नहीं पता होता था कि बाहर निकलने का रास्ता किस तरफ़ है.

hide and seek
Source: fallinsports

9. गिफ़्ट खोलने की सेरेमनी

ये सेरेमनी मेहमानों के लिए काफ़ी अजीब हो जाती थी, लेकिन हमारे लिए काफ़ी मज़ेदार थी. इस दौरान गिफ़्ट के तौर पर ज़्यादातर बच्चे स्टेशनरी के आइटम्स देते थे. पेन्सिल बॉक्स, टिफ़िन, लूडो, स्केच कलर्स ये उस टाइम के कुछ स्टैंडर्ड गिफ़्ट्स में से एक होता था.

gift opening birthday child
Source: frugalandthriving

ये भी पढ़ें: वो 20 स्टेशनरी आइटम्स जो खोल देंगे 90's के बच्चों की यादों का पिटारा, स्कूल के दिन आ जाएंगे याद

10. रिटर्न गिफ़्ट्स

कोई भी बच्चा बिना रिटर्न गिफ़्ट लिए पार्टी से नहीं जाता था. चाहे वो चॉकलेट हो या बैलून, पर कोई भी बच्चा ख़ाली हाथ पार्टी से नहीं लौटता था. रिटर्न गिफ़्ट मिलने पर उसे घर जाकर खोलने की भी एक्साइटमेंट रहती थी ताकि अगली बार जिसने गिफ़्ट दिया है, उस दोस्त को उसी तरह का गिफ़्ट अपने बर्थडे पर भी दे सकें.   

return gifts
Source: indiatimes

बेहद याद आती हैं 90s की वो बर्थडे पार्टीज़.