हमारे आस पास की कुछ कहानियां ऐसी होती हैं जो हर किसी को प्रेरित करने का काम करती हैं. ऐसी ही एक प्रेरणादायक कहानी अब्दुल अलीम नाम के ऐसे युवक की भी है जो सिक्योरिटी गार्ड से उसी कंपनी में अपनी कड़ी मेहनत से बन गया सॉफ़्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर.

ये भी पढ़ें- गोली लगने के बाद हो गया था Paralysis, आज टीचर बन कश्मीर के बच्चों की ज़िन्दगी संवार रहा है जावेद

Source: linkedin

भले ही हुनर हर किसी के पास नहीं होता, लेकिन सीखने की भी कोई उम्र नहीं होती

अब्दुल अलीम की कहानी इसकी मिसाल है, जो फिलहाल Zoho कंपनी में सॉफ़्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर हैं, लेकिन अलीम लोगों के लिए प्रेरणास्रोत इसलिए हैं क्योंकि वो पहले इसी कंपनी में सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करते थे. आज उनकी कहानी बहुत से लोगों को ज़िंदगी में आगे बढ़ने का हौसला दे रही है. 

Source: linkedin

कैसे हुई शुरुआत? 

साल 2013 में जब अब्दुल ने अपना घर छोड़ा तो उनकी जेब में सिर्फ़ 1000 रुपये थे. इस दौरान 800 का ट्रेन टिकट पर ख़र्च हो गए और हाथ में सिर्फ़ 200 रुपये बचे थे. 2 महीने तक सड़कों पर घूमने के बाद बड़ी मशक़्क़त के बाद चेन्नई स्थित 'ज़ोहो स्टार्टअप' में अब्दुल को सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी मिल गई. इस दौरान वो 12 घंटे की नौकरी के नौकरी करते थे.

ये भी पढ़ें- आखिर क्यों और किसे दी जाती है 17, 19 और 21 तोपों की सलामी, जानिये इसका रोचक इतिहास

Source: linkedin

कुछ इस तरह से बदली क़िस्मत  

अब्दुल अलीम के परिवार की आर्थिक हालत ठीक न होने के चलते वो केवल 10वीं तक ही पढ़ पाए, लेकिन अलीम को कंप्यूटर से भी बड़ा लगाव था. वो अक्सर कंपनी के सॉफ्टवेयर इंजीनियर्स को छुप छुपकर काम करते हुए देखता था. एक रोज कंपनी के एक सीनियर कर्मचारी ने अब्दुल से उसकी कंप्यूटर की जानकारी और पढ़ाई के बारे में पूछा. इस पर अलीम ने बताया कि उसने स्कूल में थोड़ा बहुत HTML के बारे में पढ़ा था. फिर क्या, बदल गई अलीम की ज़िंदगी.

Source: linkedin

दरअसल, कंपनी के सीनियर कर्मचारियों ने आलीम के अंदर सीखने की ललक देखी तो उन्होंने उसे कोडिंग सिखाने का फ़ैसला किया. इसके बाद अलीम हर दिन सिक्योरिटी गार्ड की 12 घंटे की शिफ़्ट पूरी करने के बाद सीनियर्स से कोडिंग सीखने लगा. क़रीब 8 महीने तक सीखने के बाद अलीम एक ऐप बनाने में सफल रहा, जो सीनियर्स को काफ़ी पसंद आया.

Source: linkedin

अलीम की इस क़ामयाबी से ख़ुश होकर सीनियर्स ने उन्हें डेवलपमेंट इंजीनियर की पोस्ट के लिए इंटरव्यू देने की सलाह दे. इस दौरान अलीम ने इंटरव्यू पास कर लिया. पिछले 8 साल से अब्दुल अलीम Zoho Corporation में सॉफ़्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर के तौर पर कार्यरत हैं.

अब्दुल आलीम ने हाल ही में अपनी ये दिल लेने वाली कहानी LinkedIn पर शेयर की थी. इस दौरान हज़ारों यूज़र्स आलीम के जज़्बे और लगन से खासे प्रभवित हुए.