जेल के बारे में तो सब जानते हैं लेकिन वहां जाने से सब बचते हैं क्योंकि जेल से भयानक और ख़राब जगह कोई नहीं होती. बस, फ़र्क़ इतना है कि कुछ लोगों को वहां से आने के बाद ये पता चलता है और कुछ लोग तो बिना जाए ही जानते हैं. हालांकि, जेल में कैदियों के खाने-पीने से लेकर रहने की सभी व्यवस्था होती है. इसके बाद भी जहन्नुम जैसी ही होती है. कितनी बार कैदियों के भागने की भी ख़बरें आती रहती हैं, लेकिन सन् 1934 में California के San Francisco में एक ऐसी ख़तरनाक जेल बनी, जिससे कैदी का भागना 'मुश्किल ही नहीं नामुमकिन है.'

alcatraz jail most dangerous prison in the world
Source: wikimedia

ये भी पढ़ें: ये हैं दुनिया के 20 सबसे डरावने और ख़तरनाक पुल, इन्हें पार करना ख़तरों से खेलने के बराबर है

दरअसल, इस जेल का नाम है 'अलकाट्राज़ जेल', (Alcatraz Jail), जो Alcatraz Island पर स्थित है. इसकी मेंटीनेंस में ज़्यादा खर्च होने की वजह से इसे 1963 में बंद कर दिया गया था. म्यूज़ियम के तौर पर इस्तेमाल हो रही इस जेल में लाखों की तादाद में लोग आते हैं. इसे 'The Rock' नाम से भी जाना जाता है.

alcatraz jail most dangerous prison in the world
Source: cntraveler

सैन फ़्रांसिस्को खाड़ी के ठंडे पानी के बीच बनी इस जेल में अमेरिका के सबसे ख़तरनाक कैदियों को रखा जाता था, ताकि वो भाग न सकें. इसलिए इस जेल के इंतज़ाम बहुत पुख्ता थे और नियम-क़ानून बहुत ही सख़्त. जेल के 29 साल के इतिहास में केवल 36 कैदियों ने भागने की कोशिश की थी, जिनमें 14 पकड़ में आ गए थे तो कुछ को गोली मार दी गई थी और कुछ पानी में डूब गए थे. इनमें से पांच कैदियों की तो लाश भी पुलिस को नहीं मिली थी.

alcatraz jail most dangerous prison in the world
Source: feednews

सोर्स की मानें तो इस जेल से जून 1962 में तीन कैदी भागने में सफल रहे थे, जिनमें फ़्रैंक मॉरिस, जॉन एंगलिन और क्लेरेंस एंगलिन थे, जिसका पता कई सालों के बाद एक लेटर के ज़रिए हुआ था, लेकिन पुलिस की छानबीन के बावजूद ये नहीं कहा जा सकता है कि वो ज़िंदा हैं. हालांकि, कैदी जॉन एंगलिन और क्लेरेंस एंगलिन जो भाई थे, उनके घरवालों ने दावा किया था कि वो ज़िंदा हैं, लेकिन वो कभी मिले नहीं.

alcatraz jail most dangerous prison in the world
Source: imgsrv2

आपको बता दें, कई कैदियों के आत्महत्या करने के चलते जेल को सबसे डरावनी जेलों में से भी एक माना जाता था, क्योंकि माना जाता था कि यहां पर उनकी आत्माएं भटकती हैं. कई बार तो लोगों ने यहां पर डरावनी गतिविधियों को भी महसूस किया था.