'शराबी' फ़िल्म में अमिताभ बच्चन फ़रमाते हैं कि 'नशा शराब में होता तो नाचती बोतल'. गाना बढ़िया है, मगर ख़्याल अवैज्ञानिक. क्योंकि नशा शराब में ही होता है और पीने के बाद झूमता आदमी ही है. झूमता क्या बौराता है. ऐसे में बहुत से लोग शराब से निजात भी पाना चाहते हैं. लेकिन देखने में आता है कि शराबी अक्सर ये बोलते हैं कि वो शराब छोड़ना तो चाहते हैं, मगर छोड़ नहीं पाते. उन्हें न पीने पर बेचैनी होती है. 

alcoholic
Source: therecoveryvillage

तो हमने सोचा कि आज इसी विषय पर क्यों न बात की जाए. मसलन, अगर शराबी 1 महीने तक शराब ना पिए, तो शरीर पर क्या असर पड़ेगा? तो चलिए जानते हैं. 

ये भी पढ़ें: ये हैं दुनिया के सबसे ज़्यादा बिकने वाले 25 Whisky ब्रांड्स, इनमें 13 भारतीय ब्रांड भी शामिल हैं

शराब छोड़ने के बाद के 72 घंटे तक कैसा फ़ील होगा?

अगर कोई बहुत ज़्यादा शराब पीता रहा है, तो शराब छोड़ने के शुरुआती कुछ घंटे उसे उलझन लग सकती है. इसमें बेचैनी, हाथ कांपना, पसीना और सिरदर्द जैसे लक्षण नज़र आ सकते हैं. शराब पीने का बहुत मन करेगा. थकान और डिप्रेशन फ़ील हो सकता है. हालांकि, शुरुआती लक्षण हलके होते हैं, 12 घंटे बाद असली परेशानी शुरू होती है. कुछ बहुत गंभीर मामलों में इंसान को हैलूसिनेशन हो सकता है. दिल की धड़कन और ब्लड प्रेशर बढ़ सकता है. 

शराब छोड़ने के 48 घंटे बाद क्या होगा?

Source: medicalnewstoday

48 घंटे तक शराब ना पिए, तो शरीर पर क्या असर पड़ेगा? इस समय तक आप कुछ नॉर्मल फ़ील करने लगेंगे. अपने काम थोड़ा बेहतर ढंग से कर पाएंगे. हालांकि, पसीना आना, ब्लड प्रेशर का बढ़ना जैसी थोड़ी-बहुत समस्याएं रहेंगी. मगर 3 से 7 दिन के अंदर ये सारे लक्षण ग़ायब हो जाएंगे. बहुत ज़्यादा शराब के लती कुछ लोगों में ऐसे लक्षण बने रह सकते हैं. ऐसे में उन्हें अपने डॉक्टर्स से सलाह लेनी चाहिए.

एक हफ़्ते बाद बदलने लगेगी ज़िंदगी

शराब से एक हफ्ते दूर रहने के बाद आपको नींद बेहतर आएगी और उसकी क्वालिटी भी बढ़ जाएगी. देखिए, लोग कहते हैं कि शराब पीकर वो तुरंत सो जाते हैं. मगर ये पूरा सच नहीं होता. क्योंकि नींद के पहले चरण में गहरी नींद तो आती है लेकिन दूसरे चरण में नींद बार-बार टूटती है. वहीं, शराब छोड़ने पर आप पूरी तरह गहरी नींद में सोते हैं और जब सुबह उठते हैं, तो ज़्यादा तरोताज़ा महसूस करते हैं. 

sleep
Source: india

शराब छोड़ने से आपके शरीर में पानी की कमी नहींं रहेगी. क्योंकि जितनी शराब इंसान पीता है, उससे चार गुना अधिक पानी वो अपने शरीर का खो देता है. जिसके चलते सिरदर्द होता है. शरीर में नमक और पोटैशियम की कमी हो जाती है. मांसपेशियों में दर्द और उल्टी लगती है. वहीं, शराब छोड़ने पर ये सारी चीज़ें नहीं होतीं. साथ ही, आपका मूड भी बेहतर रहता है. दरअसल, शराब और अवसाद में गहरा रिश्ता है. अगर आप पहले से ही निराश या दुखी हैं तो शराब इन भावनाओं को और बढ़ा सकती है. ऐसे में शराब छोड़ने पर आपका मूड बेहतर हो सकता है.

साथ ही, आगे वक़्त में आपका वज़न भी घटेगा. ब्लड प्रेशन नॉर्मल हो जाएगा. इम्यूनिटी बेहतर होगी. दरअसल, शराब पीने वालों को संक्रामक बीमारियां जल्दी पकड़ लेती हैं. क्योंंकि शराब साइटोकिन बनने में रुकावट डालती है. साइटोकिन वे तत्व हैं जो शरीर की इंफ़ेक्शन से लड़ने की ताक़त में अहम भूमिका निभाते हैं.

महीने भर तक शराब ना पिए, तो शरीर पर क्या असर पड़ेगा?

महीने भर तक शराब ना पिए, तो शरीर पर क्या असर पड़ेगा? बहुत से लोगों को शराब छोड़ते ही अपनी त्वचा में बदलाव नज़र आने लगता है. दरअसल, शराब पीने से त्वचा सूखती है और डैमेज हो जाती है. इंसान अपनी उम्र से बड़ा दिखने लगता है. वहीं, शराब छोड़ने आपकी त्वचा में निखार आने लगता है. क्योंकि आपकी बॉडी में पानी बना रहता है. 

skin
Source: thefashionisto

महीने भर तक शराब छोड़ने के बाद आपका लीवर बेहतर काम करने लगता है. अगर आपका लीवर फंक्शन एल्कोहल से बहुत ज्यादा प्रभावित नहीं है, तो ये 4-8 हफ्तों में ठीक हो सकता है. ऐसे में आपका लीवर, शरीर से दूषित पदार्थों को हटाने, खाने को पोषक तत्वों को परिवर्तित करने, खनिजों और विटामिनों को संग्रहीत करने के लिए बेहतर तरीके से काम करने लगता है. कुल मिलाकर आप एकदम फ़िट हो जाएंगे या होने लगेंगे. 

तो देखा, शराब छोड़ना जिनता मुश्किल लगता है, उतना है नहीं. बस इच्छा शक्ति मज़बूत होनी चाहिए. और कहते हैं न, मंज़िल अगर ख़ूबसूरत हो, तो मुश्किल रास्तों की फ़िक्र नहींं करनी चाहिए.