मथुरा-वृंदावन हिन्दू धर्म के बहुत ही प्रसिद्ध धार्मिक स्थल हैं. भारतीय संस्कृति और हिन्दू धर्म को करीब से जानने के लिए आपको यहां ज़रूर जाना चाहिए. अगर आप भी मथुरा और वृंदावन घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो हमने आपके लिए एक ख़ास लिस्ट तैयार की है. इनमें वो सारी जगहें मौजूद हैं जिन्हें आप एक ही दिन में धूम सकते हैं.

ये रही वो लिस्ट:

1. गोविंद देव मंदिर

गोविंद देव का ये मंदिर 1590 में जयपुर के राजा मान सिंह ने बनवाया था. मंदिर की छत पर कमल के फूल अंकित हैं. होली पर यहां बहुत भारी भीड़ देखने को मिलती है.

2. शाहजी मंदिर

शाहजी मंदिर अपनी अद्भुत चित्रकारी के लिए प्रसिद्ध है. इसके प्रार्थना कक्ष में रासलीला दर्शाती मूर्तियां भी हैं. मंदिर में कई मुड़े हुए पिलर हैं, जो इसकी ख़ासियतों में से एक है.

3.सेवा कुंज और निधिवन

सेवा कुंज और निधिवन एक ख़ूबसूरत फुलवारी है. ऐसा कहा जाता है कि यहां राधा से मिलने भगवान कृष्ण हर रोज़ आते हैं. इसमें करीब 1600 से तुलसी के पेड़ हैं, जिन्हें गोपियों का ही रूप माना जाता है. कहते हैं कि यहां कृष्ण ने गोपियों के संग रासलीला रचाई थी.

4. बांके बिहारी मंदिर

श्रीकृष्ण और राधारानी का एकाकार रूप है बांंके बिहारी, उन्हीं को समर्पित है ये मंदिर. यहां देश-विदेश से सैंकड़ों श्रद्धालु इनके दर्शन को आते हैं. वृंदावन की स्थानीय संस्कृति की झलक पाने के लिए आपको यहां ज़रूर जाना चाहिए.

5. गोवर्धन पर्वत

ये वही पर्वत है, जिसे भगवान कृष्ण ने अपने गांववालों की रक्षा के लिए छोटी उंगली से उठा लिया था. ये मथुरा से 22 किलोमीटर दूर है. यहां की कचौड़ियां बहुत फ़ेमस हैं.

6. कृष्ण जन्म भूमि मंदिर

भगवान कृष्ण का जन्म यहीं पर हुआ था. इसलिए इस मंदिर में एक जेलनुमा परिसर भी बनाया गया है. कहते हैं कि कंस ने अपनी बहन देवकी और उनके पति को इसी जगह बंदी बनाकर रखा था. इसलिए इस स्थान पर भक्तों की भीड़ सदैव लगी रहती है.

7. प्रेम मंदिर

भगवान कृष्ण और सीताराम को समर्पित इस मंदिर में इनके जीवन को कई कलाकृतियों के द्वारा दर्शाया गया है. यहां की दीवारों पर कृष्ण की रासलीला के चित्र अंकित हैं. इसलिए इसे प्रेम मंदिर भी कहा जाता है.

8. कुसुम सरोवर

कहते हैं कि ये वही स्थान है जहां भगवान कृष्ण राधा से मिला करते थे. इस सरोवर के किनारे ही राजस्थानी वास्तुकला में बना एक भव्य मंदिर भी है. मथुरा जंक्शन रेलवे स्टेशन से ये 26 किलोमीटर दूर है.

9. जामा मस्जिद

इस मस्जिद को औरंगज़ेब के गवर्नर नब्बीर शाह ने 1661 में बनवाया था. ये मस्जिद अपनी उत्कृष्ठ मीनारों और नक्काशी के लिए प्रसिद्ध है.

10. द्वारकाधीश मंदिर

इस मंदिर को ग्वालियर के खजांची सेठ गोकुल दास पारिख ने 1864 में बनवाया था. भगवान कृष्ण के इस मंदिर में भक्तों की भीड़ लगी रहती है. यहां मिलने वाला प्रसाद भी बहुत ही स्वादिष्ट होता है.

अगली बार मथुरा और वृंदावन जाना तो इन जगहों पर ज़रूर घूम कर आना.