नवरात्रि के त्यौहार में दुर्गा पूजा की धूम होती है. ख़ासकर पश्चिम बंगाल की दुर्गा पूजा को देखने के लिए तो देश-विदेश से पर्यटक पहुंचते हैं. यहां पर दुर्गा पूजा के लिए ख़ास तरह का भोग तैयार किया जाता है. वहां पर दुर्गा पूजा के लिए बड़े-बड़े पंडाल लगाए जाते हैं. बंगाल में दुर्गा पूजा को 'पूजो' के नाम से भी जाना जाता है. इस उत्सव में भोग के अलावा कई तरह के अन्य पकवान भी बनाए जाते हैं. 

आइए जानते हैं उन व्यंजनों के बारे में...

Source: moneycontrol

पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा के उत्सव की शुरुआत महालया यानी नवरात्रि शुरू होने से एक दिन पहले ही जाती है. इस बार महालया 28 सितंबर को था और उसके अगले दिन नवरात्री का पहला दिन. इस बार का दुर्गा उत्सव पंचमी यानी 3 अक्टूबर से शुरू होकर दशमी यानी 8 अक्टूबर को समाप्त होगा.

Source: youtube

ऐसी मान्यता है कि इन 9 दिनों में मां दुर्गा धरती पर आती हैं और अपने भक्तों के घर जाती हैं. इस दौरान भक्त दुर्गा पूजा के लिए भोग और प्रसाद तैयार करते हैं. माता को भोग लगाने के बाद इसे पंडाल में मौजूद सभी लोगों में बांटा जाता है. मां दुर्गा के लिए इस मौके पर ख़ास तौर पर खिचड़ी, बैंगन भाजा, लबरा(मिक्सवेज), पयेश और रसगुल्ला शामिल होते हैं. 

खिचड़ी 

Source: thehindu

इसे बासमती चावल और मूंग की दाल से बनाया जाता है. 

बैंगन भाजा 

Source: ezpzcooking

बैंगन से बने पकौड़ों को बैंगन भाजा कहा जाता है. 

लबरा 

Source: ndtv

ये एक तरह की मिक्स वेज होती है, जिसे खिचड़ी के साथ खाने के लिए बनाया जाता है. 

पयेश 

Source: midday

ये एक बंगाली मिठाई है. इसे चावल से बनाया जाता है. इसका स्वाद कुछ-कुछ खीर जैसा ही होता है. 

रसगुल्ला 

Source: ndtv

इसके बारे में तो सभी जानते हैं. इस मिठाई को दूध को फ़ाड कर बनाया जाता है. 

दूर्गा पूजा से जुड़े अन्य पकवान 

भोग के अलावा भी लोग दुर्गा पूजा में अन्य प्रकार के व्यंजनों का लुत्फ़ उठाते हैं. पश्चिम बंगाल के दुर्गा पूजा के पंडालों में बंगाली स्वीट्स और स्नैक्स भी खाने को मिलते हैं. जैसे घुघनी, काठी रोल, फ़िश कटलेट, मुग़लई पराठा आदि. दुर्गा पूजा का मुख्य आकर्षण आनंद मेला होता है. ये पंचमी या फिर षष्ठी को मनाया जाता है.

Source: archanaskitchen

आनंद मेले में घर के बने पकवान पंडाल में रखे जाते हैं, जिन्हें पंडाल में आए लोग खा सकते हैं. जैसे बिरयानी, मुग़लई पराठा, पयेश, पतिशपता, कबाब, छोलर दाल लुची, आलू पोस्तो, मोछर चोप, काच्चा आमेर चटनी, कोलर बोरा आदि. दशमी के दिन शाम को लोग फिर इक्कठा होते हैं दुर्गा पूजा के आख़िरी भोज के लिए.

Source: insta4you

शायद यही वजह है कि दुर्गा पूजा का मतलब बंगाल में कुछ लोगों के लिए एक तरह के फ़ूड फ़ेस्टिवल जैसा होता है. क्योंकि इस दौरान तरह-तरह के बंगाली फ़ूड जो खाने को मिलते हैं. यक़ीन न आए तो एक बार अपने किसी बंगाली फ़्रेंड से ज़रूर पूछ कर देखना, वो भी हमारी बात से सहमत होगा.

हैप्पी दुर्गा पूजा!

Lifestyle से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.