क्या आप भी सुबह सबसे पहले उठ कर चाय पीना पसंद करते हैं? क्या आप के दिमाग़ में हर समय चाय-चाय चलता रहता है? क्या आपकी नसों में भी ख़ून के बजाय चाय दौड़ती है?

अगर इन सब का जवाब हां है, तो तुरंत पुणे के सबसे पुराने और सबसे मशहूर टी स्टॉल 'आद्य अमृतत्तुल्य' चलिए! अगर आप पुणेकर हैं तो उम्मीद है आपको शहर के इस सबसे पुराने 'टी स्टॉल' के बारे में ज़रूर पता होगा. अगर नहीं तो टेंशन नॉट हम हैं न !

Source: zomato

जिन लोगों को नहीं पता है उनकों बता दें कि अमृतत्तुल्य शब्द 'अमृत' यानी देवों का भोजन और 'तुल्य' यानि तुलना से मिलकर बना है. यानी अमृत के सामान. यहां की चाय भी किसी अमृत से कम नहीं है. एक बार पिओगे हमेश याद रखोगे. 

adhya Amruttulya
Source: whatshot

पुणे के गणेश पेठ में स्थित ये दुकान 96 साल पुरानी है यानि स्वतंत्र भारत से भी पहले 1924 में खुली थी. इस चाय की दुकान के मालिक राजस्थान से पुणे आए थे. मगर पहले उन्होंने भांग की दुकान खोली थी. मगर वो जल्द ही बंद हो गई और उन्होंने चाय की दुकान खोल ली. 

Source: cityshor

'आद्य अमृतत्तुल्य' की चाय का अलग ही स्वाद है. वो कहीं और से ख़ास चाय की पत्तियां मंगवाते हैं और पीतल के बर्तन में चाय बनाते हैं. जिसकी वजह से उनकी चाय में वो अलग सा ख़ास स्वाद आता है.   

Adhya Amruttulya
Source: cityshor

दुकान की दीवारों में आप पेशवा साम्राज्य का भव्य इतिहास देख सकते हैं. अब ये दुकान 5वीं पीढ़ी द्वारा चलाई जा रही है. चाय के साथ-साथ आप यहां उपमा, पोहा, मिसल, वड़ा पाव और साउथ इंडियन खाने का मज़ा भी ले सकते हैं.

अगली बार अब आपका जब भी चाय पिने का मन करे तो आपको पता है कहां जाना है?!