अगर आपके अंदर अपने सपने को सच करने का जज़्बा है तो हर मुश्किल आसान हो जाती है. इसके लिए आपकी उम्र, क़द या फिर रंग-रूप नहीं, बल्कि क़ाबिलियत मायने रखती है. हमारे देश में आज भी अक्सर छोटे कद के लोगों का मज़ाक बनाया जाता है, उन्हें बौना, छोटू, ठिगना, छोटो सिक्का और भी न जाने कितने नामों से पुकारा जाता है. लेकिन लोग उनकी क़ाबिलियत को पहचान नहीं पाते.  

ये भी पढ़ें: सिक्योरिटी गार्ड से उसी कंपनी में इंजीनियर बने इस 10वीं पास लड़के की कहानी है बेहद प्रेरणादायक

Source: patrika

बात छोटे कद की हो रही है तो आज हम आपको एक ऐसे ही शख़्स से मिलाने जा रहे हैं जो भारत के सबसे छोटे क़द के एडवोकेट हैं. इनका नाम प्रमोद यादव है. बरेली के रहने वाले 45 वर्षीय प्रमोद का कद 3 फ़ुट 5 इंच है, लेकिन समाज में उनका क़द काफ़ी बड़ा है.

सुने लोगों के ताने, मेहनत कर बने एडवोकेट  

Source: oneindia

प्रमोद यादव को बचपन से लेकर आज तक छोटे क़द के चलते लोगों के ताने सुनने पड़ते हैं. स्कूल से लेकर कॉलेज तक उन्हें काफी बुली भी किया जाता था, लेकिन वो अपने हाज़िर जवाबी से सामने वाले को हैरान कर देते थे. प्रमोद ने दुनिया की इस ओछी सोच को दरकिनार करते हुए साबित किया कि मेहनत और लगन से कोई भी काम किया जाए तो मंज़िल आसान हो जाती है.

ये भी पढ़ें- गोली लगने के बाद हो गया था Paralysis, आज टीचर बन कश्मीर के बच्चों की ज़िन्दगी संवार रहा है जावेद 

Source: indiatimes

बचपन से ही नेता बनने की थी चाह

प्रमोद को बचपन से ही नेता बनने की चाह थी. बरेली के गवर्नमेंट इंटर कॉलेज से हाईस्कूल और इंटर तक की पढ़ाई की. इसके बाद बरेली कॉलेज से ही एमए और एलएलबी करने के बाद वो एडवोकेट बन गए. प्रमोद आज न केवल एडवोकेट, बल्कि समाजवादी पार्टी के बड़े नेता भी हैं. चुनाव प्रचार के दौरान वो पार्टी के स्टार प्रचारक होते हैं.

Source: indiatimes

मुलायम सिंह से मिलने का बाद बन गए नेता  

प्रमोद यादव ने बताया कि, साल 2003 में मुलायम सिंह बरेली आए तब मेरी उनसे पहली बार मुलाक़ात हुई थी. इस दौरान मैंने उनसे कहा कि मैं पार्टी की सेवा करना चाहता हूं. इस पर नेता जी का कहना था कि सेवा करना चाहते हो तो पहले पार्टी ज्वाइन करो, इसके बाद मैंने सपा ज्वाइन कर ली. 10 साल पहले चुनाव प्रचार के दौरान मेरी मुलाक़ात अखिलेश यादव से हुई. इस दौरान वो मेरे काम से काफ़ी प्रभावित हुए.  

Source: indiatimes

इसके बाद मुझे उन्होंने मुझे चुनाव प्रचार की ज़िम्मेदारी दी और मैं पार्टी के लिए प्रचार करने लगा. पिछले 18 सालों से मैं पार्टी के कार्यक्रमों में हिस्सा रह चुका हूं. पार्टी के कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने के साथ ही मैं एडवोकेट भी था. ऐसे में मेरे काम से ख़ुश होकर पार्टी ने मुझे उपभोक्ता महासभा का अध्यक्ष बना दिया.  

ये भी पढ़ें- ये बुनकर जूट और बांस जैसी 25 चीज़ों के रेशे से बनाता है साड़ी, Limca Book of Records में भी है नाम

Source: navpravah

45 साल के प्रमोद से जब शादी करने के बारे में पूछा गया तो उनका कहना था भले ही वो कुंवारे हैं, लेकिन उनकी शादी 'समाजवादी पार्टी' से हो गई है. अब किसी लड़की के बारे में सोचना भी उनके लिए पाप है. अखिलेश यादव को को देश का पीएम बनाने के लिए उन्होंने आजीवन ब्रह्मचर्य रखने का व्रत लिया है. अब इसी के साथ जीना और मरना है. 

Source: indiatimes

प्रमोद यादव हाल ही में गाज़ीपुर में 'किसान आंदोलन' को समर्थन देने आये थे. इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार की नीतियों का जमकर विरोध किया था.