बीकानेरी भुजिया मेरी फे़वरेट नमकीन है. इस क्रिस्पी और टेस्टी नमकीन पर दुनिया की सारी ख़ुशियां वारी जा सकती हैं. मेरी इस बात से बीकानेरी भुजिया के चाहने वाले ज़रूर सहमत होगें. कई बार इसे खाते हुए मैंने सोचा है कि कब ये हमारे नाश्ते का हिस्सा बनी? मेरी इसी चाह ने मुझे गूगल की गहराइयों में गोता लगाकर बीकानेरी भुजिया का इतिहास निकाल लाने को प्रेरित किया.

चलिए मिलकर बीकानेरी भुजिया के इतिहास पर भी एक नज़र डाल लेते हैं.

Bikaneri Bhujia
Source: manavmandir

थोड़ी सी रिसर्च करने पर पता चला कि बीकानेरी भुजिया जिसे हम चाय, मिठाई या फिर अन्य किसी भारतीय पकवान के साथ बड़े ही चाव से खाते हैं उसका इतिहास राजा महाराजाओं से जुड़ा है.

Bikaneri Bhujia
Source: thehindu

इसका ताल्लुक राजस्थान के बीकानेर शहर से है. इसका इतिहास क़रीब 150 वर्ष पुराना है. बीकानेर की रियासत की राजधानी रहे इस शहर की स्थापना 1482 में राजा राव बीका ने की थी. बीकानेर रियासत के एक प्रसिद्ध राजा थे, महाराजा डूंगर. 1877 में पहली बार बीकानेरी भुजिया का निर्माण उन्हीं के शासनकाल में हुआ था. उसके बाद इसका स्वाद लोगों की ज़ुबान पर ऐसा चढ़ा कि ये पूरे भारत में प्रसिद्ध हो गई.

Bikaner
Source: flickr

बीकानेर के बाज़ारों में इस भुजिया को कड़ाहे में तलते लोग आपको हर कहीं दिखाई दे जाएंगे. बीकानेर में हर दिन हज़ारों टन बीकानेरी भुजिया बनाई जाती है. वहां पर बीकानेरी भुजिया अब एक छोटी इंडस्ट्री का रूप ले चुकी है. अब तो इसे विदेशों में भी निर्यात किया जाने लगा है. हल्दीराम, बिकानो जैसे फ़ेमस नमकीन ब्रांड इसके प्रमुख विक्रेताओं में से एक हैं.

Bikaneri Bhujia
Source: emdees

ये शहर अपने कल्चर और पहनावे के लिए तो फ़ेमस रहा ही है, अब अपनी बीकानेरी भुजिया के लिए वर्ल्ड फ़ेमस हो गया है. विदेशों में भी इसके चाहने वालों की कोई कमी नहीं है.

Bikaneri Bhujia
Source: amazon

इस भुजिया को कुछ लोग 'भुजिया सेव' भी कहते हैं. टाइम पास करने का ये बेस्ट स्नैक है. ये जिस भी फ़ूड के साथ मिल जाती है उसका स्वाद दोगुना कर देती है.

बीकानेरी भुजिया के इतिहास से जुड़ा ये पहलू जानते थे आप?

Lifestyle से जुड़े दूसरे आर्टिकल पढ़ें ScoopWhoop हिंदी पर.